देश में बाढ़ का कहर से 184 की मौत, 10 लाख से ज्यादा हुए विस्थापित

तिरुवनंतपुरम, खबर संसार।देश के कई राज्यों में बाढ़ के चलते भयावह स्थिति बनी हुई है। सरकार ने अबतक लगभग 10 लाख लोगों को बाढ़ प्रभावितों के लिए बनाए गए राहत कैंपों में पहुंचाया है। सोमवार तक बाढ़ जनित घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 184 पहुंच गई थी।

अभी भी कई इलाकों खासकर दक्षिण भारत के कई राज्यों में भारी बारिश जारी है। तमाम सरकारी संस्थाएं जैसे एयरफोर्स, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पुलिस की टीमें रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही हैं।

केरल में बारिश के अलावा भू-स्खलन भी बड़ी समस्या बना हुआ है। बारिश कम होने के साथ ही सर्च ऑपरेशन जारी हो गया है। कवलापाड़ा, पुतुमाला, मलप्पुरम और वायनाड में सर्च ऑपरेशन जारी है। केरल में 2.87 लाख लोगों को राहत कैंपों में ले जाया गया है और अब तक कुल 76 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका है क्योकिं मलप्पुरम में 50 लोग अभी भी गायब हैं।

केरल के 14 जिलों में रेड अर्लट जारी

व़हीं केरल के 14 जिलों में मंगलवार के लिए रेड अलर्ट नहीं जारी किया है। हालांकि, छह जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। ऑरेंज अलर्ट का मतलब है कि लोग तैयार रहे हैं। मौसम खराब होने की संभावना है, जिसके चलते सड़क और हवाई यात्रा प्रभावित हो सकती है और जान-माल को नुकसान हो सकता है।

केरल के उत्तरी जिले मलप्पुरम, वायनाड, कोझिकोड और सेंट्रल केरल में इदुक्की मूसलाधार बारिश के बुरी तरह प्रभावित हुए थे। मलप्पुरम में 8 अगस्त को कई जगहों पर हुए भू-स्खलन में 24 लोगों की मौत हो गई थी। अब मलप्पुरम से 24, कोझिकोड से 17, वायनाड से 12 शव बरामद किए जाने के बाद मरने वालों की कुल संख्या 76 हो गई है। मलप्पुरम में बनाए गए 240 राहत कैंपों में 59,351 लोग रह रहे हैं।

कर्नाटक में बाढ़ प्रभावित 5,81,897 लोगों को अभी तक रेस्क्यू किया जा चुके हैं। 1,181 राहत कैंप बनाए गए हैं, जिनमें 3,32,629 लोग रह रहे हैं। भारी बारिश के चलते कर्नाटक के 17 जिलों के 86 तालुकों के कुल 2,694 गांव प्रभावित हुए हैं। राज्य सरकार के मुताबिक, अब तक 42 लोगों की मौत हो गई है और 12 लोग अभी भी गायब हैं।

कर्नाटक के सीएम बी एस येदियुरप्पा ने सोमवार को ऐलान किया बाढ़ या भू-स्खलन के चलते अपना घर गंवाने वाले लोगों को घर बनाने के लिए पांच लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। इसके अलावा जिन लोगों के घरों को नुकसान पहुंचा है उन्हें एक लाख रुपये और किराए पर रहने वाले लोगों को पांच हजार रुपये दिए हर महीने दिए जाएंगे।

ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *