जानें मिग-21 कमियां 800 से ज्यादा मिग-21 विमानों में करीब 280 विमान हादसे का शिकार


नई दिल्ली (खबर संसार) भारत ने विश्व के खई बड़े देशों में पाकिस्तान को आतंकवाद का अड्डा बताने पर जोर दिया है। जिसके बाद पाकिस्तान के अंदर बौखलाहट साफ दिख ही है। हालांकि भारतीय वायुसेना ने सोमवार को पीओके में अंदर जाकर आतंकी ठिकानों पर बम बरसाए। इसके बाद पाकिस्तान ने भी सीमा पर हलचल तेज कर दी।
भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर पाकिस्तानी लड़ाकू विमान सीमा पार करके भारत के दायरे में घुसे। जहां उन्होंने बम भी गिराए। उससे भारत को किसी भी तरह का नुकसान नहीं हुआ है। हालांकि पाक की जवाबी कार्यवाही करते हुए भारतीय वायुसेना का विमान मिग-21 दुर्घटना ग्रस्त हो गया था।

इसके साथ ही एक भारतीय पायलट पाकिस्तान की हिरासत में पहुंच गया है। इसको लेकर विमान की काबिलियत पर सवाल उठ रहे हैं।
कहा जा रहा है कि जिस विमान से भारतीय वायुसेना पाकिस्तान के साथ लोहा ले रही थी उसका नाम मिग-21 है। गौर करने की बात ये है कि इस विमान का इतिहास ज्यादा अच्छा नहीं रहा है। मिली जानकारी के अनुसार इस विमान से भारत को ही ज्यादा नुकसान हुआ है। ये विमान काफी कमजोर लगता है और काफी पुराना भी है। इस विमान ने दुश्मनों से ज्यादा अपने ही पायलटों की जानें ली हैं।

ये हैं इसकी कमियां

मिग-21 विमानों में 50 के दशक में इस्तेमाल होने वाली तकनीक पर काम करता है।
इसकी लैंडिंग 340 किमी प्रति घंटे जितनी तेज रफ्तार में हो सकती है। टेक-ऑफ के लिए भी हाई-स्पीड चाहिए। इससे यह काफी खतरनाक हो जाता है।
इसकी कैनोपी का डिजायन ऐसा है जिससे पायलट रनवे को ठीक से देख नहीं पाता।
सिंगल इंजन होने के चलते यह हमेशा खतरे के घेरे में रहता है।
इसे हाई एल्टीट्यूड इंटरसेप्टर के तौर पर डेवलप किया गया था, लेकिन भारतीय वायु सेना इसे मल्टी-रोल फाइटर प्लेन के तौर पर इस्तेमाल करती है।

ताजा खबरें पढ़ने लिए क्लिक करें  आज पूरे देश में जोश और खुशी की लहर !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *