गोल्ड का मतलब सिफü हॉकी नहीं ये उससे भी बढ़कर

Please follow and like us:

मुबंई (खबर संसार)
बॉलीवुड के सबसे चचिüत और डिमांडिंग स्टार अक्षय कुमार जिस फिल्म को छू लेते हैं वही फिल्म गोल्ड हो जाती है। जी हां अक्षय की फिल्म गोल्ड का हर कोई बेसब्री से इंतजार कर रहा है। 15 अगस्त को रिलीज हो रही इस फिल्म को लेकर अक्षय भी खास उत्साहित हैं। सच्ची घटना पर आधारित इस फिल्म के जरिए वह दुनिया को बताना चाहते हैं कि आजादी के बाद भारत ने हॉकी में कैसा अपना पहला ओलम्पिक गोल्ड जीता था। इस फिल्म में आपको अक्षय का बंगाली लुक नजर आएगा। म्यूजिक में भी जैज का तड़का लगाया गया है। फिल्म जिस दौर की है उस दौर में जैज म्यूजिक काफी चलन में था। टीवी की नागिन के नाम से मशहूर अभिनेत्री मौनी रॉय अक्षय की पत्नी के रोल निभा रही है। मौनी इस फिल्म से बड़े पदेü पर अपनी पारी शुरू कर रही हैं। वहीं इसमें अमित साध, सनी कौशल, कुणाल कपूर भी अहम किरदार निभाते हुए दिखेंगे। हमें पहला गोल्ड आजादी के एक साल बाद 1948 मिला था ये मैं नहीं जानता था। ये बात मुझे तब पता चली जब रीमा जी ने मुझे इस फिल्म की कहानी सुनाई। मुझे बहुत हैरानी हुई कि हमें अपने इतिहास की इतनी बड़ी बातें भी नहीं पता। उसके बाद मैंने गुगल पर सचü किया तो वहां भी सिफü एक या दो आटिüकल थे। ये फिल्म देश को पहला गोल्ड दिलवाने की एक टीम की चाहत और संघषü की कहानी है। जिसे पूरा होने में 12 सालों का वक्त लगा। 1936 में देखा गया गोल्ड का सपना 1948 में जाकर पूरा होता है। भारत ने 12 अगस्त 1948 में ओलंपिक में एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपना पहला स्वणü पदक जीता था।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *