दो साल का रिकार्ड तोड़ जीडीपी वृद्धि दर पहुंची 8.2 प्रतिशत पर

Please follow and like us:

नई दिल्ली (खबर संसार)
वित्त वर्ष 2018.19 की पहली तिमाही की विकास दर के मोर्चे पर सरकार के लिए अच्छी खबर सामने आई है। कृषि और विनिर्माण क्षेत्र के मजबूत प्रदर्शन की बदौलत देश की आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 8.2 प्रतिशत की तेज रफ्तार के साथ बढ़ी है। साथ ही भारत ने चीन को पीछे छोड़ते हुये दुनिया की सबसे तेजी से बढऩे वाली अर्थव्यवस्था का तमगा बरकरार रखा है। बता दें कि 2017 के आखिरी तिमाही में विकास दर 7.7 थी। जबकि एक साल पहले समान अवधि के दौरान यह आंकड़ा 5.6 फीसदी रहा था। केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय सीएसओ के शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 2011.12 के स्थिर मूल्यों के आधार पर पहली तिमाही में जीडीपी का आंकड़ा 33.74 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया जो कि 2017. 18 की इसी अवधि में 31.18 लाख करोड़ रुपये रही थी। केन्द्र सरकार के सांख्यिकी विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक कोर सेक्टर की ग्रोथ में गिरावट देखने को मिली है। जहां जुलाई में कोर सेक्टर ग्रोथ 6.6 फीसदी आंकी गई वहीं, माह दर माह के आधार पर कोर इंडस्ट्री ग्रोथ 7.6 फीसदी से घटकर 6.6 फीसदी हो गई। वहीं जून में कोर सेक्टर ग्रोथ 6.7 फीसदी से संशोधित कर 7.6 फीसदी की गई थी। केंद्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक माह दर माह के आधार पर जुलाई में कोयला उत्पादन की ग्रोथ 11.5 फीसदी से घटकर 9.7 फीसदी पर पहुंच गई। वहींए जुलाई में कच्चे तेल के उत्पादन की ग्रोथ 3.4 फीसदी से बढ़कर 5.4 फीसदी पर पहुंच गई।इससे पहले आठ बुनियादी उद्योगों की जुलाई में वृद्धि दर 6.6 रही। इसकी प्रमुख वजह कोयलाए रिफाइनरी उत्पाद, सीमेंट और उवर्रकों का उत्पादन बेहतर रहना है। यह आठ बुनियादी उद्योगों की सूची में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उवर्रक, इस्पात, सीमेंट और बिजली उत्पादन उद्योग शामिल हैं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *