मंदाकिनी की तरह साधना भी थी राज कपूर की खोज

मुबंई (खबर संसार)
बॉलीवुड में कई एक्ट्रेसेस ऐसी है जो अपने समय की स्टाइल आइकन रही हैं लेकिन कुछ एक्ट्रेस ऐसी भी है जिनका स्टाइल स्टेटमेंट आज भी ट्रेंड में हैं। जैसे फ्रिंज हेयर कट जिसे आप लोग साधना कट के तौर पर जानते हैं। 60 के दशक में इस हेयर कट को फेमस किया मशहूर एक्ट्रेस साधना शिवदसानी ने जिन्हें आप साधना के नाम से जानते हैं। आज बॉलीवुड की इसी शानदार अदाकारा का जन्मदिन है। 2 सितंबर 1941 को पाकिस्तान के कराची में जन्मी साधना अपनी एक्टिंग से ज्यादा अपने हेयर कट और ड्रेसिंग स्टाइल को लेकर फेमस थी लेकिन उनके इस हेयर कट के पिछे भी एकमजेदार कहानी है। आइए 60 के दशक की इस स्टाइल आइकन के जन्मदिन के मौके पर आपको बताते हैं उनसे जुड़ी कुछ रोचक बातें। साधना अपने माता-पिता की एकमात्र संतान थी और आजादी के बाद जब देश का बंटवारे हुआ तो उनका परिवार कराची छोड़कर मुंबई आ गया। साधना का नाम उनके पिता ने अपनी पंसदीदा अभिनेत्री साधना बोस के नाम पर रखा था। साधना ने बचपन में ही तय कर लिया था कि उन्हें फिल्मों में एक्टिंग करनी है। जब वह स्कूल में थीं तो डांस सीखने के लिए वह एक डांस स्कूल में जाती थीं। एक दिन एक डांस इंस्ट्रक्टर उस स्कूल में आए। उन्होंने बताया कि राजकपूर को अपनी फिल्म के गु्रप डांस के लिए कुछ ऐसी छात्राओं की जरुरत है जो फिल्म के ग्रुप डांस में काम कर सकें। साधना की डांस टीचर ने कुछ लड़कियों से डांस करवाया और जिन लड़कियों को चुना गया एक दौर था जब सिर्फ एक्टर्स के स्टाइल पॉपुलर हुआ करते थे लेकिन उस दौर में भी साधना ने अपने स्टाइल स्टेटमेंट से इंडस्ट्री में अपना लोहा मनवाया। 50.60 के दशक में मशहूर साधना कट आज तक ट्रेंड में है। हिंदुस्तान की आधी से ज्यादा लड़किया आज भी अपने चार बाल माथे पर गिराकर साधना कट को ट्रेंड में बरकरार रखे हुए हैं लेकिन इस हेयर कट के पीछे भी एक मजेदार वाकया है। बस अपनी पसंदीदा एक्ट्रेस के हेयर कट की देखा.देखी आण्के नैयर ने साधना के बाल भी वैसे ही करवा दिए। इस बारे में साधना ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने अपने डायरेक्टर की बात सुनकर वैसे बाल कटवा लिए थेए लेकिन उन्हें इस बात की बिलकुल भी अंदाजा नहीं था कि उनका ये हेयरस्टाइस इतना फेमस हो जाएगा। साधना को फिल्मों में एक्टिंग ही करनी थईए जिसकी तैयारी उन्होंने कॉलेज के दिनों से ही शुरू कर दी थी। वो कॉलेज में थिएटर करतीं थी। ऐसे में किसी शो के दौरान उन्हें सिंधी फिल्मों के किसी डायरेक्टर ने देख लिया। बस यहीं से उन्हें उकी पहली सिंधी फिल्म अबाना मिली। इस फिल्म के लिए उन्हें महज एक रुपए टोकन अमाउंट दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *