विश्वासघात चार सालों में सिर्फ बात ही बात इंदिरा

Sharing is caring!

हल्द्वानी (खबर संसार)
मोदी सरकार ने चार सालों में जुमलेबाजी और विश्वासघात के सिवा कुछ नही किया बेरोजगारों को धोखा दिया तो किसानों को रूलाया तो देश में नफरत फैलाई इसी तरह के तमाम आरोप आज स्वराज आश्रम में आयोजित प्रेसवार्ता में नेता प्रतिपक्ष डां इन्दिरा हदयेश प्रदेश प्रभारी अनुग्रह सिंह ने साझा प्रेसवार्ता में लगाये। दोनो ने कहा कि कांग्रेस पार्टी आज 26 मई को मोदी सरकार के 4 साल पूरा होने पर सभी जिला एवं प्रदेश मुख्यालयों में एक राष्टï्रव्यापी विरोध प्रदर्र्शन कर रही है। कांग्रेस पार्टी इसे विश्वासघात दिवस के रूप में मना रही है। समाज के सभी वर्गो का मानना है कि बीजेपी सरकार ने उनसे विश्वातघात किया है। उन्होने बताया कि चार साल के कुशासन के दौरान किसान विरोधी नीतियों के कारण कृषि क्षेत्र में असवाद तनाव की स्थिति है। प्रधानमंत्री ने किसानों को लागत न्यूनतम समर्थन मूल्य पचास प्रतिशत देने का वादा किया। विगत चार सालों में लागत का समर्थन मूल्य पचास प्रतिशत लाभ एक भी फसल के लिए नहीं दिया गया है। यूपी कांगे्रस ने किसानों को 72 हजार करोड़ रूपये के ऋण माफ किए थे। इसके विपरीत भाजपा सरकार ने किसानों के ऋण माफ करने से इन्क ार कर दिया है। इस कारण ग्रामीण क्षेत्रों के किसान ऋण में डूब गए है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना इस प्रकार से निजी बीमा की कम्पनी मुनाफा योजना बनकर रह गई है। वर्ष 2016-17 में बीमा कम्पनियों द्वारा चौदह हजार करोड़ रूपये का मुनाफा कमाया गया। जबकि किसानों को मात्र 6 हजार करोड़ का मुआवजा दिया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने प्रतिवर्ष दो करोड़ रोजगार सृजित करने का वादा किया था। इस हिसाब से भाजपा सरकार को चार सालों में आठ करोड़ रोजगार के अवसर भी सृजित करने चाहिए थे। श्रम ब्यूरों के आकड़ो के अनुसार आठ लाख रोजगार के अवसर भी सृजित नहीं हो पाये है। विमुद्रीकरण के कारण पन्द्रह लाख रोजगार के अवसरों का नुकसान हुआ है। खामियों से युक्त जीएसटी के कारण भी आर्थिक गतिविधियों में मंदी आयी है। अर्थव्यवथा औंधे मुह गिरने की स्थिति में है और इस कारण रोजगार के अवसरों का और विनाश हुआ है। भाजपा के पास पाकिस्तान को लेकर बिन बुलाए भी यात्राओं की कूटनीति में उलझ कर रह गयी है। इसके कोई परिणाम नहीं परिणाम नहीं निकले है। साथ ही जीडीपी संख्या में अनुकूल परिवर्तन के बावजूद भी चार सालों में जीडीपी न्यूनतम रहा है। प्रेसवार्ता में राहुल छिमवाल,हरीश सिंह,नारायण पाल,सुमित हदयेश,ललित जोशी,विमला संागुड़ी मयंक भट्ट्टï सहित दर्जनो लोग उपस्थित थे।

Please follow and like us:
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *