सीधे मेडिकल से दवा लेना गैरकानूनी अपराध

Please follow and like us:

नई दिल्ली  (खबर संसार)
अभी तक अधिकाश लोग बिना डाक्टरी सलाह मशवरा के मेडिकल से दबा ले लेते थे। लेकिन अब ऐसा करना गैरकानूनी होगा। इस सम्बंध में बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा है कि बिना जांच के मरीजों को दवा लिखना आपराधिक लापरवाही के समान है। कोर्ट ने एक महिला मरीज की मौत के लिए मामले का सामना कर रहे एक डॉक्टर दंपति की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करते हुए यह टिप्पणी की। जस्टिस साधना जाधव ने स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर दंपति दीपा और संजीव पावस्कर की तरफ से दायर अग्रिम जमानत याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान टिप्पणी की। मरीज की मौत के बाद रत्नागिरि पुलिस ने डॉक्टरों पर आईपीसी की धारा 304 गैर इरादतन हत्या में केस दर्ज किया था। पुलिस के अनुसार महिला को इस वर्ष फरवरी में रत्नागिरि में आरोपी दंपति के अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पर उसका सिजेरियन ऑपरेशन किया गया। इस दौरान उसने एक शिशु को जन्म दिया। दो दिन बाद उन्हें छुट्टी दे गई। अगले दिन महिला बीमार हो गई और उसके रिश्तेदार ने दीपा पावस्कर को इस बारे में बताया तो उन्हें दवा दुकान जाकर दुकानदार से बात कराने को कहा। हालांकि दवा लेने के बाद महिला की हालत ठीक नहीं हुई और फिर से अस्पताल में भर्ती कराया गया।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *