गर्मियों में चेहरे और बालों की करनी है देखभाल तो अपनाएं ये जबरदस्त टिप्स

Sharing is caring!

नई दिल्ली (खबर संसार)

गर्मियों के मौसम में हमारी त्वचा और शरीर से जुड़ी परेशानियां बढ़ जाती हैं। हर दिन हमारा शरीर गर्मी और बैरोमैट्रिक दबाव के प्रति प्रतिक्रिया करता है। जैसे-जैसे पारा बढ़ता जाता है तपती धूप और सूखा मौसम हमारे शरीर पर विपरीत प्रभाव डालने को बाध्य हो जाता है। हमारा शरीर हर बार बढ़ते पारे के साथ तालमेल नहीं बिठा पाता है खासतौर से उस स्थिति में जब हम हमारी जरूरत को लेकर सजग नहीं रहते कि हमें दिन में लगातार शरीर को नमी पहुंचाते रहना चाहिए। नमी और गर्मी मिलकर सबसे महत्वपूर्ण वाष्पीकरण की प्रक्रिया को रोक सकते हैं जो हमारे शरीर को ठंडा रखने की प्रक्रिया होती है। त्वचा द्वारा वाष्पीकरण नहीं होने के कारण शरीर का आंतरिक तापमान बढ़ जाता है और हमारे शरीर में इस तरह के घातक बदलाव ला सकता है जैसे. त्वचा पर खुजली के साथ चेहरे गर्दन पर लाल निशान और धड़कनों का तेज हो जाना। ब्लड प्रेशर कम हो जाने से बेहोशी हो जाती है जिसे चेतना का खोना कहते हैं गर्मियों के मौसम में यह बहुत आम होता है। आयुर्वेद के अनुसारए गर्मी ष्पित्त दोष का मौसम होता है जिसका संबंध अग्नि तत्व से होता है। यह मेटाबॉलिज्म चयापचय और शरीर में होने वाले परिवर्तनों के लिये जिम्मेदार होता है जिसमें पाचन भी शामिल है। कई स्वास्थ्य समस्याएं पित्त दोष से जुड़ी होती हैं जिनमें सीने में जलन शरीर का अत्यधिक तापमान और पसीना त्वचा संबंधी समस्याएं जैसे त्वचा पर चकत्तेए घमौरी और मुंहासेए पेट में अत्यधिक एसिडिटी और पेप्टिक अल्सर चिड़चिड़ापन रूखे बाल और गुस्सा आने जैसी बातें शामिल हैं। मूड में होने वाले बदलाव का संबंध बढ़ते तापमान के साथ होता है और आपको तंत्रिका तंत्र को आराम देने की जरूरत होती है। साथ ही साथ तनाव संबंधी डिसऑर्डर को दूर करने की। वरना इनकी वजह से आपके चेहरे बालों और शरीर पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। अत्यधिक एसिडिटी और अपच के कारण आपके चेहरे का पीएच स्तर कम हो जाएगाए जिससे और अधिक एलर्जी टैनिंग और चेहरे की चमक में कमी आ जाती है। उच्च मात्रा में तरल फलों का रस आसानी से पचने वाले सलाद और उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ से खोई चमक वापस आ सकती है। साथ ही कुछ उपायों को अपना कर आप गर्मियों में त्वचा का खास ख्याल रख सकती हैं। दही यह डेयरी उत्पाद कैल्शियम और मैग्नीशियम तत्वों से भरपूर होता है जो हमारी हड्डियों को मजबूत करने के अलावा बेहतरीन एक्सफोलिएटर भी है। इसे बेसन में मिलाकर लगाने से त्वचा को गोरा करने वाले एजेंट की तरह कार्य करता है और जिससे टैन को खत्म करने में मदद मिलती है। नीम की पत्तियां मारगोसा नीम में जलन रोधी फंगसरोधी जीवाणुरोधी गुण होते हैंए जो ना केवल आपकी सेहत को लाभ पहुंचाता है बल्कि सौंदर्य संबंधी कई परेशानियों को भी दूर करता है। नीम में विटामिन सी होता है जो त्वचा संबंधी समस्याओं जैसे ब्लैकहेड्स पिग्मेंटेशन निस्तेज और बढ़ती उम्र के असर को दूर करने में मदद करता है। इससे त्वचा पर जवां निखार आता है। जई का आटा जई सेहतमंद और पोषक खाद्य होता है इसमें शरीर को बाहर के साथ-साथ अंदरूनी रूप से भी स्वस्थ करने के बेहतरीन गुण होते हैं। सूखी तथा खुरदुरी त्वचा के लिए जई का आटा एक अच्छा स्क्रब होता है। तुलसी की पत्तियां तुलसी की पत्तियों में उच्च मात्रा में पोटेशियम मैग्नीशियम और विटामिन सी होता है जो आपके ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें भरपूर मात्रा में एटीऑक्सीडेंट होता है।

Please follow and like us:
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *