भारतीय स्टेट बैंक समेत अन्य वित्तीय संस्थानों की खिंचाई!

नई दिल्ली (खबर संसार) अनिल अंबानी की कंपनी कर्ज में डूबी हैं जिससे चेयरमैन न्यायाधीश एस जे मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने रिलायंस कम्युनिकेशन को कर्ज दे रखे बैंकों खासकर एसबीआई को फटकार लगायी और यह पूछा कि इसके लिए उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं शुरू की जानी चाहिए।

पीठ ने कहा, आपने जो बातें कही, उसे पूरा करने में विफल रहे। संयुक्त कर्जदाता समूह विफल रहा है। कोई बिक्री नहीं हुई। पीठ के अनुसार कर्जदाताओं ने संपत्ति बिक्री के जरिए करीब 37,000 करोड़ रुपये की वसूली को लेकर एनसीएलएटी को ‘सब्जबाग दिखाये लेकिन कुछ नहीं हुआ। एनसीएलटी ने कहा, आपने आरकॉम के साथ बैठकर तालियां बजाईं और दावा किया कि आप रिलायंस जियो को संपत्ति बेचकर करीब 37,000 करोड़ रुपये जुटा लेंगे…

पहले आपने प्रतिदिन करोड़ रुपये के नुकसान की बात कही थी। न्यायाधिकरण ने कहा कि संपत्ति बिक्री से राशि प्राप्त करने में विफल रहने के बाद कर्जदाता अब कंपनी को आयकर रिफंड से प्राप्त 260 करोड़ रुपये की वसूली में लगे हैं। एनसीएलएटी आर कॉम की याचिका पर सुनवाई कर रही है जिसमें उस पर चार फरवरी को लगायी गयी रोक को हटाने का आग्रह किया गया है। हालांकि, उसके कर्जदाता एरिक्सन को 550 करोड़ रुपये देने के लिये आयकर रिफंड जारी करने की अर्जी का विरोध कर रहे हैं।

ताजा खबरें पढ़ने लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *