महिला दिवस और महिला सशक्तिकरण

हल्द्वानी (खबर संसार)। महिलाऐं ही हमारे देश का गौरव है और नारी का सम्मान हमारे लिए सर्वोपरि है। आज आठ मार्च को संसार में महिलाओं के सम्मान हेतु महिला दिवस मनाया जा रहा है। कहने को हमारे समाज में महिलाओं को पुरुषों से बराबरी का दर्जा दिया गया है। परन्तु आज भी भ्रूण हत्या और घरेलू हिंसा जैसे मामले अपने देश में चर्चित विषय बने हुए है।

प्रतिदिन रेप के खबरों से अख़बार इस तरह सरोबर होता है उक्त तमाम बाते वूमेन पावर सोसयटी (डब्लूपीएस) की जिला अध्यक्ष पीहूं पुनिया ने खबर संसार से साझा की। उन्होंने खबर संसार को बताया कि हमारे देश के युवा और बुजुर्ग महिलाओं की गुहार सुनना ही नहीं चाहते हो। आज समाज के अंधेरो में कैद महिला उजली सुबह की धूप ढूंड रही है। आज भी स्त्रियाँ अपने सम्मान के लिए लड़ती जा रही है और हमारा पुरुष प्रमुख समाज देखता जा रहा है। आएं सब मिलकर उनकी गुहार सुने और उन्हें समाज की बंदिशों से आजाद करें।

विश्व के समग्र विकास के लिए महिलाओं का विकास और उन्नति की प्रमुख धारा से जुडा होना अति आवश्यक है। महिलाओं की स्थिति समाज में जितनी महत्वपूर्ण, सम्मानजनक व सक्रिय होगी, उतना ही समाज उन्नत व मज़बूत होगा।

पुराने काल से ही महिलाओं को करुणा, क्षमता और प्रेम की मूर्ति कहा जाता है। आज हमारे देश में महिला सशक्तिकरण का विषय काफ़ी चर्चित है। भारतीय महिलाओं को कानूनी और राजनैतिक बाधाओं का सामना इतना अधिक नहीं करना पड़ा जितना सामाजिक स्थिति का ना ही सिर्फ भारत, पुरे विश्व में महिलाओं का शोषण सामाजिक स्तर पर किया जा रहा है। आज उन्ही बंदिशों को तोड़ महिलाओं के लिए खड़े होना है ताकि फिर से महिला दिवस मात्र एक दिवस की तरह ना मनाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *