सियासत के सरल, सौम्य व्यक्तित्व पर्रिकर पंचतत्व में विलीन

पणजी (खबर संसार)। सरल, सौम्य व्यक्तित्व के धनी पूर्व रक्षा मंत्री एवं गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का अतिम संस्कार हिन्दू रितिरिवाजों व राजकीय सम्मान के साथ सम्पन्न हुआ। 5.45 पर पुत्र ने मुखाग्रि दी, मुखाग्रि देते ही मिट्टी का शरीर मिट्टी में मिल गया। विदित रहे की उनकी पत्नी का देहांत भी 2001 में कैंसर से हुआ था।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की अंतिम यात्रा में पूरा गोवा ही नहीं देश के तमाम राज्यों से आए राजनितिक हस्तियों से लेकर सामान्य लोगों ने मनोहर पर्रिकर को अंतिम विदाई दी। उनका अंतिम संस्कार एसएजी (सैंग) में सम्पन्न हुआ।

मनोहर पर्रिकर का कैंसर की बीमारी से जूझते हुए 63 साल की उम्र में रविवार को निधन हो गया था। मनोहर पर्रिकर अग्नाशय कैंसर से जैसी बीमारी से पीडि़त थे। मनोहर पर्रिकर के निधन पर सोमवार (18 मार्च) को केंद्र सरकार ने एक दिन का वहीं गोवा की राज्य सरकार ने सात दिनों का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है।
गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी, केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य की राजधानियों में राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा। मनोहर पर्रिकर का राजकीय सम्मान के साथ सोमवार शाम 5 बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा। गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने पणजी में प्रधानमंत्री मोदी भी पहुंचे और शोक संतप्त परिवार और पार्टी नेताओं से बातचीत व मुलाकात की। उनके साथ रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी रहीं मौजूद।

मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद गोवा में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। राज्य सरकार को समर्थन दे रही स्थानीय पार्टियों ने बीजेपी से समर्थन वापस लेने की बात कही है। गोवा कांग्रेस नेता जी चोदनकर ने कहा कि ऐसी पार्टियों ने सिर्फ मनोहर पर्रिकर के नाम पर बीजेपी का समर्थन किया था। अब पर्रिकर जी के निधन के बाद यह पार्टियां सरकार से अपना समर्थन वापस लेने की तैयारी मे हैं।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मनोहर पर्रिकर के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि मनोहर पार्रिकर का निधन न सिर्फ बीजेपी के लिए बल्कि पूरे समाज के लिए एक बड़ी क्षति की तरह है। वह एक कुशल प्रशासक थे। उनकी कमी को शायद ही कोई पूरी कर पाए. उन्होंने सैन्य बलों के आधुनिकिकरण पर भी खासा काम किया था।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का लंबी बीमारी के बाद 63 साल की उम्र में निधन हो गया है. मनोहर पर्रिकर अग्नाशय कैंसर से पीडि़त थे. मनोहर पर्रिकर के निधन पर सोमवार (18 मार्च) को एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी, केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य की राजधानियों में राष्ट्रवज आधा झुका रहेगा।

ताजा खबरें पढ़ने लिए क्लिक करें

ताजा खबरों के लिए चैनल को सब्सक्राइब करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *