क्षतिग्रस्त पेयजल लाईन की मरम्मत कर पानी की व्यवस्था सुचारू की गई

नैनीताल (खबर संसार)। जन संस्थान के महाप्रबन्धक डीके मिश्रा ने बताया कि बिड़ला जोन की राईजिंग मेन में एडीबी द्वारा बिछायी गयी 200 मिमी (8 इंच) व्यास की डीआई पाईप लाइन काल्विन मार्ग में बौ काॅटेज के निकट लीकेज हो गयी थी।

जिसकी सूचना प्राप्त होते ही पेयजल व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए तत्काल चिल्ड्रन पार्क स्थित पम्प से पम्पिंग बन्द कराकर पेयजल लाईन का मरम्मत कार्य प्रारंभ करने हुत प्रातः 08 बजे से सीसी रोड कटिंग का कार्य किया गया। जिसके पश्चात क्षतिग्रस्त पेयजल लाईन की मरम्मत करते हुए बृहस्पतिवार की सायं को ही बिड़ला जोन में पानी की सुचारू व्यवस्था शुरू कर दी गई है।

श्री मिश्रा ने बताया कि मरम्मत हुत खुदाई पर यह तथ्य सामने आ रहा है कि एडीबी द्वारा बिछाई गई राईजिंग मेन लाईनों के बैण्ड का ज्वाइंट फट रहा है या खिसक जा रहा है जिस कारण पेयजल आपूर्ति बाधित हो रही है। उन्होंने बताया कि पेयजल क्षतिग्रस्त स्थल पर डीआई पाईप लाईन काटकर एमएसईआरडब्ल्यू पाईप से बैण्ड बनाते हुए टेल पीस के माध्यम से पाईप लाईन को जोड़ा जा रहा है।

श्री मिश्रा ने बताया कि एडीबी द्वारा स्नोव्यू तथा बिड़ला जोन में बिछाई गयी पाईल लाईने जल संस्थान को अभी तक हस्तान्तरित नहीं हुई हैं। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टतया एडीबी द्वारा बिछाई गयी पेयजल लाईन दोषपूर्ण है जिसमें ज्वाइंट अधिक दिए गए है जोकि पानी के प्रेसर के कारण अपने स्थान से हट जा रहे हैं या फट जा रहे हैं जिसके कारण पेयजल आपूर्ति में कठिनायी उत्पन्न हो रही है। उन्होंने बताया कि जनहित में उक्त राईजिंग मेन्स के क्षतिग्रस्त होने पर जल संस्थान विभाग द्वारा तत्काल प्रभाव से मरम्मत कार्य कराया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि एडीबी द्वारा बिछाई गयी पेयजल लाईनों की तकनीकी जाॅच के लिए सचिव पेयजल के निर्देशों पर मुख्य महाप्रबन्धक द्वारा उनकी अध्यक्षता में चार सदस्य वाली जाॅच टीम का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि जाॅच टीम शीघ्र ही जाॅच पूरी करते हूए अपनी रिपोर्ट शासन को प्रेषित करेगी। ज्ञात हो कि एडीबी द्वारा बिछाई गयी पेयजल लाईनों के क्षतिग्रस्त होने की शिकायतों को आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल राजीव रौतेला द्वारा गंभीरता से लेते हुए पेयजल लाईनों की जाॅच हेतु शासन को अवगत कराया गया था।

ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *