सड़के पहाड़ की जीवन की रेखा व हमारी सबसे बड़ी जरुरत- रौतेला

नैनीताल, खबर संसार। सड़के हमारी आज की सबसे बड़ी जरूरत हैं और सड़के पहाड़ की जीवन की रेखा कही जाती हैं। पर्वतीय रमणीक क्षेत्रों का दृश्य दर्शन पर्यटक सड़कों के माध्यम से करते हैं ओर सुःखद अहसास से लबरेज होते हैं।

सड़कों को आधुनिकत तकनीकी से बनाने की दिशा में सरकार काम कर रही है, लेकिन हमारी कार्य प्रणाली ठीक न होने के चलते कुमाऊॅ की सड़कें काफी खस्ता हाल में हैं। यह बात आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल श्री राजीव रौतेला ने एटीआई सभागार में विभिन्न एजेंसियों एवं विभागों द्वारा बनायी जा रही सड़कों की समीक्षा के दौरान कही।

श्री रौतेला ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के निर्माण एवं विकास कार्यों की कछुआ गति से किए जा रहे कार्यों पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए प्राधिकरण के अधिकारियों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण द्वारा एनएच-87 रामपुर-काठगोदाम मार्ग के सुस्त गति से हो रहे निर्माण कार्य पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि इस महत्वपूर्ण मार्ग पर गतिपूर्वक कार्य न होने से जनमानस प्रभावित है और दुर्घटनाएं भी हो रही हैं।

उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों को स्पष्ट लहज़े में कहा है कि उनके द्वारा मण्डल में जो भी सड़क निर्माण किये जा रहे हैं, उनमें तत्परता लायी जाये तथा गुणवत्ता के मानकों का भी अनुपालन किया जाये। इसके साथ ही एनएचएआई तथा लोनिवि के जो ठेकेदार सड़कों का निर्माण कर रहे हैं, उनकी भी गति काफी सुस्त है, ऐसे में विभाग को चाहिए कि ठेकेदारों पर लगाम कसें तथा टेण्डर में जो नियम व शर्तें प्रभावी हैं उनका अनुपालन कठोरता के साथ कराया जाये। यदि कोई ठेकेदार हीलाहवाली करे या गुणवत्ता से खिलवाड़ करे तो उसके विरूद्ध विधिक कार्यवाही अमल में लायी जाये।

आयुक्त ने मुख्य अभियंता लोनिवि वीएन तिवारी को निर्देश देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश से जो सड़कें कुमाऊॅ में प्रवेश कर रही हैं, ऐसे स्थलों का चयन कर वहाॅ सड़क चैड़ीकरण तथा सौन्दर्यकरण यथा-पार्क, फव्वारे, फर्नीचर को समाहित करते हुए प्रस्ताव बनाकर प्रस्तुत करें ताकि प्राधिकरण व अन्य माध्यमों से धनराशि जुटा कर इस कार्य को किया जा सके। ऐसे स्थलों पर पर्यटकों के स्वागत के लिए विशालकाय साईनेज़ भी लगाये जायें।

उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों से कहा कि लोगों द्वारा सड़कों के किनारे निर्माण कर्य कराये जा रहे हैं, जोकि नियम विरूद्ध हैं। ऐसे निर्माण कार्यों को लेकर विभाग की उदासीनता सवालों के घेरे में है जबकि नियमानुसार सड़कों के किनारे किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य गैर-कानूनी है। उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों से कहा कि वे अभियान चलाकर सड़कों के किनारे बनाये गये अवैध कच्चे व पक्के निर्माणों को ध्वस्त करें। इस काम में जिला प्रशासन व पुलिस की भी मदद ली जाये।

काशीपुर महानगर के आन्तरिक मार्गों के खस्ता हाल स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि मानसून के बाद इनकी तत्काल मरम्मत की जाये। उन्होंने दूरभाष पर संयुक्त मजिस्ट्रेट हिमांशु खुराना को निर्देश दिये कि वे लोनिवि के साथ समन्वय करते हुए तत्काल आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। उन्होंने दोराहा-बाजपुर, काशीपुर-ठाकुरद्वारा, काशीपुर-रामनगर, रूद्रपुर-गौलापार, रामपुर-काठगोदाम सड़क मार्गों की गहनता से समीक्षा की।

बैठक में मुख्य अभियंता वीएन तिवारी, डीएस नबियाल, डीसी पाण्डे, अधीक्षण अभियंता रंजीत सिंह, अधिशासी अभियंता केके तिलारा, यूसी बहुगुणा, प्रोजेक्ट मेनेजर एनएचएआई बीपी पाठक,उप प्रबन्धक अक्षत विश्नोई, प्रभागीय वनाधिकारी एम यादव, हिमांशु बगरी आदि मौजूद थे।

ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *