रोजाना स्वाइन फ्लू के 4-5 मरीज अस्पताल पहुुंचे

नई दिल्ली (खबर संसार)एक बार फिर से स्वाइन फ्लू का वायरस आ गया है राजधानी में रोजाना स्वाइन फ्लू के संभावित 4-5 मरीज अस्पताल में पहुंच रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली में गत 19 फरवरी तक स्वाइन फ्लू 2332 लोगों को अपना शिकार बना चुका है। वहीं देशभर में इससे 12 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।
इस वायरस के कारण दिल्ली में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि, देशभर में इससे मरने वालों की तादाद 377 हो चुकी है। स्वाइन फ्लू से सर्वाधिक प्रभावित राज्यों में राजस्थान पहले नंबर पर है। वहीं दिल्ली दूसरे स्थान पर है। गुजरात को तीसरा सबसे अधिक प्रभावित राज्य बताया गया है। स्वाइन फ्लू के बढ़ते खतरे के मद्देनजर स्वास्थ मंत्रालय ने राज्य सरकारों को मामलों का जल्द पता लगाने के लिए निगरानी बढ़ाने और इन मामलों से निपटने के लिए अस्पतालों में बिस्तरों को आरक्षित रखने के लिए कहा है।
डॉक्टर बना मरीज
बाड़ा हिन्दू राव अस्पताल में असुरक्षित तरीके से स्वाइन फ्लू मरीजों का इलाज किया जा रहा है। अस्पताल में एक डॉक्टर खुद स्वाइन फ्लू की चपेट में आ गया है। हालांकि फिलहाल उनकी सेहत में सुधार बताया जा रहा है। अस्पताल प्रशासन अपने ही कर्मचारियों को संक्रमण से बचाने की कवायद नहीं कर रहा है।
रोजाना स्वाइन फ्लू के संभावित 4-5 मरीज अस्पताल पहुुंच रहे हैं। वहीं 10 से 15 मरीज वार्ड में एडमिट हैं। बावजूद उसके अस्पताल प्रशासन स्टाफ को संक्रमण से बचाने के लिए कोई उपाय नहीं कर रहा है।

एन-95 मास्क भी उपलब्ध नहीं
डॉक्टरों के अनुसार, स्वाइन फ्लू के संक्रमण से बचने के लिए एन 95 ट्रिपल लेयर मास्क सबसे सुरक्षित है। इस मास्क में प्लास्टिक के तीन फिल्टर होते हैं। यह फिल्टर सांस के साथ तमाम प्रकार के संक्रमित वायरस और धूल को भी शरीर में पहुंचने से रोकता है। लेकिन स्थिति यह है कि अस्पताल में कर्मचारियों को एन 95 ट्रिपल लेयर तो क्या साधारण मास्क भी उपलब्ध नहीं हैं। डॉक्टर और नर्सिंग स्टॉफ खुद बाजार से मास्क खरीदने को मजबूर हैं।

ताजा खबरें पढ़ने लिए क्लिक करें ~हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के मुसलमानों ने दोनों देश के बारे में कई बातें साझा की।http://khabarsansar.co.in/hindustaan-aur-paakistaan-ke-musalamaanon-ne-donon-deshon-ke-baare-mein-kaee-baaten-saajha-kee-hain/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *