बिना लाइसेंस खुले में मांस बेचना गैरकानूनी, जल्द होगी कार्रवाई- डीएम

नैनीताल, खबर संसार। संक्रामक बीमारियों के फैलाने में खुले में बिकता हुआ मांस भी एक बहुत बड़ा कारण है, बिना लाईसेंस के मांस की बिक्री भी गैर-कानूनी है। यह बात जिलाधिकारी सविन बंसल ने कही है।

उन्होंने कहा कि अनेकों माध्यमों से उनको यह जानकारी मिल रही है कि बिना लाईसेंस लिए बहुत से मांस विक्रेता कारोबार कर रहे हैं, यहाॅ तक कि जिले के कई कस्बों में फुटपाथों पर एवं ठैलों पर बिना लाईसेंस के खुलेआम मांस की बिक्री की जा रही है तथा पशुओं के वध के बाद उनके अवशेष नहरों में डाल दिए जा रहे हैं और नहरे चैक हो जा रही हैं।

गन्दगी सड़कों पर आ जा रही है। इन तथ्यों को संज्ञान में लेते हुए जिलाधिकारी श्री बंसल ने खुले में मांस की बिक्री को तत्काल प्रभाव से प्रतिबन्धित कर दिया है। इसके अवाला बिना लाईसेंस हासिल की मांस की बिक्री जिले में कहीं भी नहीं हो पाएगी।

खुले में बिक रहे मांस एवं खाद्य पर्दों की बिक्री पर शिकंजा कसने के लिए जिलाधिकारी श्री बंसल ने छापेमार दलों का गठन कर दिया है, इन दलों में नगर आयुक्त, सम्बन्धित क्षेत्र के उप जिलाधिकारी, पुलिस क्षेत्राधिकारी, नगर आयुक्त, खाद्य सुरक्षा अधिकारी, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका तथा सम्बन्धित क्षेत्र के पशु चिकित्साधिकारियो को नामित किया गया है।

उन्होंने गठित समिति सदस्यों को निर्देशित किया है कि वे तत्काल प्रभाव से प्रवर्तन की कार्यवाही सुनिश्चित करें। उन्होंने अपने जारी आदेश में निर्देश दिए हैं कि समिति अपने-अपने क्षेत्र में छापेमारी करेगी जो मांस विक्रेताओं का लाईसेंस पंजीकरण देखेगी।

इसके साथ ही समिति मीट विक्रेताओं द्वारा नियमानुसार विक्रय किए जाने वाले पशुओं के अवशेष का नियमानुसार डिस्पोज़ल कर रहे हैं अथवा नहीं, खाद्य सुरक्षा विभाग यह भी सुनिश्चित करेंगा कि यदि कोई मांस विक्रता बिना लाईसेंस/पंजीकरण के मांस विक्रय करता हुआ पाया जाता है तो उसको तत्काल सील करेंगे तथा खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम के अन्तर्गत सील करने की कार्यवाही भी करेंगे।

एनपी एक्ट 1916 के सुसंगत प्रावधानो के अन्तर्गत यदि गन्दगी अनहाईजेनिक स्थिति पायी जाती है तो नगर आयुक्त एवं अधिशासी अधिकारी मौके पर भारी जुर्माना वसूल करेंगे।

ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *