प्रदेश सरकार पशु धन को सवंर्धित और संरक्षित करने के लिए संकल्पित

नैनीताल, खबर संसार। गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष पंडित राजेन्द्र अणथ्वाल ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में पशु धन को सवंर्धित और संरक्षित करने के लिए संकल्पित है।

आयोग का पूरा प्रयास रहेगा कि गौ वंशीय पशुओं को सड़कों पर बेसहारा न रहने दिया जाए। उन्होंने प्रदेश में गौ सेवा सदनों और गौ शालाओं को आत्म निर्भर बनाने तथा उनको आर्थिक मदद दिलायी जाने की बात कही।

पंडित राजेन्द्र ने बताया कि गौ वंशीय पशुओं की देख-रेख में उत्तराखण्ड प्रथम स्थान पर है। उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत स्वयं एक गौ प्रेमी हैं तथा गौ माता की सेवा को सबसे बड़ा तीर्थ मानते हैं।

उन्होंने बताया कि सरकार भी गौ वंशीय पशुओं के संवर्धन और उनकी देखभाल के लिए सार्थक पहल कर रही है, जिसके चलते प्रदेश के प्रत्येक जनपद में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में  गौ सेवा समितियाॅ गठित की गयी हैं।

उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं के साथ ही नगर पालिकाओं, शहरी विकास की संस्थाओं के साथ ही पशु पालन, कृषि तथा शिक्षा विभाग को भी संयुक्त रूप से कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम संचालित करने में शिक्षा महकमें को भी अहम भूमिका निभानी होगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 22 गौ शालाएं पंजीकृत है, जिनका विस्तार कर ये संख्या लगभग 200 की जायेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वह भूमि बैंक बनाए, उसमें से गौ शालाओं तथा चारागाहों के लिए भूमि उपलब्ध करायें। उन्होंने बताया कि 25 ग्राम सभाओं के बीच एक गौ शाला का निर्माण किया जाना आवश्यक है।

ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *