अभिनंदन का हुआ अभिनंदन अटारी बार्डर पर

अमृतसर (खबर संसार)। और जिस पल का पूरे हिन्दुस्तान की आवाम को इंतजार था वो आ ही गया। छह बजे के आस पास विंग कमांडर अभिनंदन भारत की जमीं पर थे। विदित रहे थे कि पिछले दो दिनों से अभिनंदन के बारे में सोशल मीडिया से लेकर प्रिंट एवं इलेक्ट्रिानिक मीडिया में अभिनंदन की ही चर्चा परिचर्चा हो रही थी।

घरो में आफिस में चौराहों पर हर कोई अभिनंदन अभिनंदन कर रहा था। हर बंदा उत्सुक था अभिनंदन कब बाहर आयेंगे। लेकिन तकनीकि पक्ष यहा भी होता है कि इस तरह के मामले में कागजी कार्यवाही में समय लगता ही है। साथ ही जिस को छोड़ा जाता है उसका बाकायदा मेडिकल कराया जाता है। अभिनंदन का देरी से आने का एक कारण बीटिंग ऑफ रिट्रिट भी होता है। एक खास बात और इस समय अभिनंदन पाकिस्तान के बाघा बार्डर पर है तथा जब अपनी जमी पर आयेंगे तो भारत का अटारी बार्डर कहलायेंगा। लोगो ने आतिशबाजी भी जमकर करी।

हर बंदा ह्वाटएप, फेसबुक पर अपने-अपने विचार व्यक्त कर रहा है। बाधा बार्डर पर आज बहुत ज्यादा भीड़ होने के कारण आम जनता को एक किलो मीटर दूर रखा गया। यहां तक की मीडियो को भी 300 मीटर दूर रखा गया। सूत्रों के अनुसार चार बजकर 40 मिनट पर बाधा बार्डर पर आए। भारत के बार्डर पर बीएसएफ के जवान भी बड़ी संख्या के साथ आर्मी के कमाडों भी तैनात रहें।

गुरूवार की शाम पाक पीएम ने अभिनंदन को रिहा करने का कियाा था ऐलान

ज्ञात रहे कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की ओर से गुरुवार शाम को विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने और भारत को सौंपने के ऐलान के बाद से ही उनकी वापसी का इंतजार पूरे देश को था। पहले देश के इस वीर सपूत को सुबह 10 बजे के करीब अटारी पहुंचना था, लेकिन बाद में उनके 3 बजे तक तथा उसके बाद 4 बजे का समय दिया गया।

27 फरवरी को भारतीय वायुसीमा में घुस आए पाकिस्तानी वायुसेना को खदेडऩे के चक्कर में विंग कमांडर पाकिस्तान अधिकृत सीमा में प्रवेश कर गए थे और वहां पर पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने उन्हें पकड़ लिया। भारत के कड़े रुख के बाद पाकिस्तान अभिनंदन को कब्जे में लेने के एक दिन बाद ही उसके प्रधानमंत्री ने उसे सकुशल रिहाई का ऐलान किया।

जैसा की उम्मीद थी वैसा ही हुआ शुक्रवार यानी आज शाम तक अभिनंदन के पाकिस्तान के वाघा बॉर्डर से होते हुए देश की अटारी तक आने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि अभिनंदन इस समय पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में हैं और वह वहां से पहले लाहौर लाए जाएंगे। लाहौर लाए जाने के बाद उन्हें भारत की सीमा से सटे वाघा बॉर्डर तक लाया जाएगा, फिर अटारी बॉर्डर पर उन्हें पाकिस्तानी सेना भारतीय अधिकारियों को सौंपेगी।

अटारी बॉर्डर पर भारतीय सीमा में आने के बाद उन्हें अमृतसर एयरपोर्ट लाया जा सकता है। फिर अमृतसर एयरपोर्ट से उन्हें वायुसेना के विमान से दिल्ली लाया जाएगा। माना जा रहा है कि दिल्ली पहुंचने के बाद उनसे पाकिस्तानी सीमा में जाने की घटना के बारे में पूछा जाएगा और वहां पर उनके साथ किए गए व्यवहार के बारे में पूछताछ की जा सकती है।

जीएसटी पर एक दिवसीय कार्यशाला हुयी आयोजित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *