Monday, June 24, 2024
HomeUttarakhandगर्मी से बेहोश हुए 50 छात्र, स्कूल खुले रखने के आदेश को...

गर्मी से बेहोश हुए 50 छात्र, स्कूल खुले रखने के आदेश को बताया गलत

बिहार के शेखपुरा जिले के अरियारी ब्लॉक के मनकौल मिडिल स्कूल में अत्यधिक गर्मी के कारण आज सुबह कम से कम 50 छात्र बेहोश हो गए। जिले में तापमान 40 से 45 डिग्री सेल्सियस के बीच बढ़ रहा है। प्रारंभ में, छह छात्र बेहोश हो गए, लेकिन बाद में, कई और छात्र बेहोश होने लगे। यह घटना तब शुरू हुई जब छात्र प्रार्थना के लिए एक सभा में शामिल हुए और फिर कक्षा में चले गए। पूरे मामले से स्कूल और गांव में हड़कंप मच गया।

बेहोश छात्रों को पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स उपलब्ध कराया गया और एम्बुलेंस नहीं आने के बाद उन्हें तुरंत बाइक, टेम्पो और ई-रिक्शा पर जिले के सदर अस्पताल ले जाया गया। स्कूल के प्रधानाध्यापक सुरेश प्रसाद ने तुरंत सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग को घटना के बारे में सूचित किया और एम्बुलेंस का अनुरोध किया। हालाँकि, एम्बुलेंस के देरी से आने से ग्रामीण नाराज हो गए, और उन्होंने सड़क जाम कर दी और प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

हेडमास्टर प्रसाद ने घटना के बारे में बताया कि आठवीं कक्षा के छात्र असेंबली में भाग लेने के बाद कक्षा में बेहोश होने लगे। हमने उन्हें पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स उपलब्ध कराए और एम्बुलेंस को बुलाया। जब वह नहीं पहुंचे तो हमने उन्हें अस्पताल ले जाने के लिए निजी वाहनों का इस्तेमाल किया।’ सदर अस्पताल के चिकित्सक सत्येन्द्र कुमार ने कहा कि यहां राज्य में भीषण गर्मी पड़ रही है।

अन्य स्कूलों और जिलें से भी लू के करण बच्चों के बेहोश होने की खबरें आई सामने

अन्य स्कूलों और जिलों से भी लू के कारण बच्चों के बेहोश होने की खबरें सामने आई हैं। बेगुसराय जिले के मटिहानी मध्य विद्यालय में भी छह छात्र गर्मी के कारण बेहोश हो गए जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए मटिहानी पीएचसी अस्पताल ले जाया गया। मामला बिहार के बेगुसराय जिले के मटिहानी थाना क्षेत्र के मटिहानी मध्य विद्यालय का है। जिले में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है, जिससे लू की स्थिति बढ़ गई है।

मटिहानी मध्य विद्यालय के प्रशासन और शिक्षकों ने इतनी भीषण गर्मी में स्कूल खुले रखने के लिए बिहार सरकार की आलोचना की। उन्होंने गर्मी के बावजूद सुबह 6 बजे स्कूल संचालित करने के निर्णय के लिए शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव केके पाठक को विशेष रूप से दोषी ठहराया। शिक्षकों ने अपनी निराशा व्यक्त करते हुए कहा, “इस आदेश से छात्रों और शिक्षकों दोनों के लिए परेशानी पैदा हो गई है। ऐसे मौसम में स्कूल खुले रखने का सरकार का ‘तुगलकी फरमान’ अस्वीकार्य है और केके पाठक ने इस मुद्दे को नजरअंदाज कर दिया है।

इसे भी पढ़े-मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रानीबाग स्थित एचएमटी फैक्ट्री का निरीक्षण किया

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.