Uttar Pradesh

Doctors को पड़ेगा एक करोड़ का जुर्माना

Doctors को पड़ेगा एक करोड़ का जुर्माना

लखनऊ, खबर संसार। डॉक्‍टरों (Doctors) को पड़ेगा एक करोड़ का जुर्माना जी हांं,  यूपी की योगी सरकार ने डॉक्‍टरों (Doctors) को लेकर बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत पीजी करने के बाद डॉक्टरों को कम से कम 10 साल तक सरकारी अस्पताल में सेवाएं देनी होंगी।

स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव ने इस संबंध में जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि अगर कोई बीच में नौकरी छोड़ना चाहता है तो उसे एक करोड़ रुपये की धनराशि जुर्माने के तौर पर यूपी सरकार को भुगतान करना होगा।

अधिकारियों ने बताया कि अगर कोई डॉक्टर (Doctors) पीजी कोर्स बीच में ही छोड़ देता है तो उसे तीन साल के लिए डिबार कर दिया जाएगा। इन तीन सालों में वह दोबारा दाखिला नहीं ले सकेंगे।

सरकारी Doctors सीनियर रेजिडेंसी में रुकने पर भी रोक

योगी सरकार के फैसले में यह भी कहा गया है कि पढ़ाई पूरी करने के बाद चिकित्साधिकारी को तुरंत नौकरी जॉइन करनी होगी। इसके अलावा पीजी के बाद सरकारी डॉक्टरों को सीनियर रेजिडेंसी में रुकने पर भी रोक लगा दी गई है। नए नियम में कहा गया है कि विभाग की ओर से इस संबंध में अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) नहीं जारी किया जाएगा।

इसे भी पढ़े: Pfizer vaccine के इमरजेंसी इस्तेमाल को अमेरिका ने मंजूरी दी

सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए सरकार ने नीट (NEET) में छूट की भी व्यवस्था की है। ग्रामीण क्षेत्र के सरकारी अस्पताल में एक साल नौकरी करने के बाद एमबीबीएस डॉक्टरो को नीट प्रवेश परीक्षा में 10 अंकों की छूट दी जाती है। वहीं, दो साल सेवा देने वाले डॉक्टरों को 20 और तीन साल पर 30 अंको की छूट मिलती है।

 

Related posts

Leave a Comment