Corona

यही हाल रहा तो वैक्सीन किल्लत का सामना होना ही है

ख़बर संसार नई दिल्ली। यही हाल रहा तो वैक्सीन किल्लत का सामना होना ही है जी हा इंडिया को आने वाले समय में वैक्सिंग के लिए और जूझना पड़ सकता है क्योंकि उसने नई कंपनियों से ना कोई बात करी है ना एडवांस आर्डर के लिए एडवांस दिया है जी हां उक्त बात टॉप बायोलॉजिस्ट डॉक्टर गगनदीप कांग ने कही है।

डॉक्टर कांग का कहना है कि जायड्स कैडिला और बायोलॉजिकल जैसी कंपनियों जिनकी वैक्सीन इस साल के अंत तक आ सकती है उनसे भारत सरकार फ्यूचर डील करके कह सकता है कि अगर आपका प्रयोग सफल रहा तो हम आपकी वैक्सीन खरीद लेंगे लेकिन भारत ने इस दिशा में कुछ नहीं किया है।

टॉप वायरोलॉजिस्ट गगनदीप कांग का यह बहुत बड़ा बयान आया है कि भारत में ग्लोबल इंटरनेशनल मार्केट में वैक्सीन खरीदने में बहुत देर कर दी है। जिसके कारण वह वैक्सीन खरीदने में बहुत पीछे रह गया है उन्होंने इसका मुख्य कारण बताया कि मोदी सरकार ने नई वैक्सीन ट्रायल में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाइ है। ना ही कंपनियों को एडवांस पेमेंट दिया है वैक्सीन के लिए। जिससे भारत-वैक्सीन हासिल करने में पिछड़ जाएगा।

डॉक्टर गगनदीप कौर वायरोलॉजिस्ट का मानना है कि कि जब कई राज्य वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किए हैं केंद्र सरकार ने राज्यों को ग्लोबल टेंडर जारी कर सीधे विदेश से वैक्सीन आर्डर करने के लिए कहा है जिसमें उत्तर प्रदेश उड़ीसा महाराष्ट्री समेत कई राज्यों ने इसके लिए ग्लोबल टेंडर जारी किए हैं डॉक्टर गगनदीप कांग का मानना है कि ट्रायल मोड में ही निवेश करने से नुकसान का खतरा बना रहता है लेकिन हमें जोखिम उठाकर ऐसा करना चाहिए यदि ऐसा ना कर सके तो तो निश्चित रूप से पीछे रह जाएंगे

Related posts

Leave a Comment