Uttarakhand

छात्राें को tobacco से होने वाले दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक करें

रूद्रपुर, खबर संसार। तम्बाकू (tobacco) नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत शोसल वर्कर जिले के राजकीय एवं प्राइवेट विद्यालयों में छात्रों को तम्बाकू जनित तम्बाकू उत्पादो से होने वाले दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक करें।

यह आदेश जिलाधिकरी श्रीमती रंजना राजगुरू ने विकास भवन के सभागार में राष्ट्रीय तंबाकू (tobacco) नियंत्रण प्रकोष्ठ की बैठक में दी।  बैठक में उन्होने सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी दिए।

उन्होने कहा कि शिक्षा विभाग जनपद के सभी प्रधानाचार्य की जिम्मेदारी सुनिश्चित करें कि स्कूलों के भीतर व स्कूल परिसर के 100 गज की दूरी तक तम्बाकू (tobacco) पदार्थ का सेवन या बिक्री न हो इस पर विशेष ध्यान रखा जाये। उन्होने कहा कि यदि किसी के भी स्तर पर कोई लापरवाही प्रकाश में आई तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

स्‍टाल लगा लोगाेें को जागरुक करें

उन्होने कहा कि स्वास्थ्य विभाग लोगों को जागरूक करने के लिए शिविरो मे स्टाॅल के माध्यम से लोगो को तम्बाकू (tobacco) से होने वाले हानि के बारे में जानकारी देना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि तम्बाकू उन्मूलन केंद्र के माध्यम से अधिक से अधिक लोगो की काउंसिलिंग करना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन लोगों ने काउंसिलिंग के माध्यम से तम्बाकू का सेवन छोड़ दिया है, ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनकी विडियो संदेश बना कर प्रचार-प्रसार करें।

उन्होने कहा कि सरकारी दफ्तरों में एवं औद्योगिक संस्थानों आदि स्थानों पर भी तम्बाकू से होने वाली हानि के प्रति लोगो को जागरूक करें। जिलाधिकारी ने कहा कि तम्बाकू नियंत्रण व उससे होने वाले दुष्प्रभाव के सम्बन्ध में विभिन्न माध्यमों से प्रचार-प्रसार करना सुनिश्चित करें।

इसे भी पढ़े- Tira के 6 लिए करोड़ का टैक्‍स पीएम ने माफ कर दिया, जाने क्‍यों

बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ0 डी0 एस0 पंचपाल ने बताया कि कार्यक्रम के अन्तर्गत शोसल वर्कर द्वारा राजकीय एवं प्राईवेट विद्यालयों में छात्र-छात्राओं को तम्बाकू (tobacco) से होने वाले दुष्प्रभाव के प्रति विभिन्न गतिविधियो (चित्रकला, निबन्ध, लेखन प्रतियोगिता) आदि से जागरूक किया जाता है।

उन्होने कहा कि कोविड महामारी के उपरांत विद्यालय खुलने पर अभी तक 20 विद्यालयों जनजागरूक तम्बाकू नियंत्रण का अभियान चलाया गया है। उन्होने कहा कि तम्बाकू एवं तम्बाकू उत्पादों को छोड़ने हेतु आवश्यक परामर्श एवं निशुल्क फार्माकोलाॅजिकल उपचार प्रदान किया जा रहा है।

उन्होने कहा कि 2020-21 में काउंसलर के माध्यम से 860 व्यक्तियों को परामर्श दिया गया है, 258 व्यक्तियों को निकोटेक्स का वितरण किया गया है एवं उक्त के सम्बन्ध में अभी तक 18 बैठकों का आयोजन किया गया है। उन्होने कहा कि आम जनता में जिनको तम्बाकू छोड़ना है या तम्बाकू आदि से सम्बन्धित कोई सूचना दर्ज करानी हो तो राष्ट्रीय टोल फ्री नम्बर 1800110456 पर सूचना दे सकते है।

Related posts

Leave a Comment