International

लंदन में महामारी अब बेकाबू, Oxford की वैक्‍सीन को कभी भी मिल सकती है मंजूरी

लंदन, खबर संसार। कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन के विकराल रूप धारण करने बाद भी यूरोप के लोगों को ऑक्सफर्ड (Oxford) यूनिवर्सिटी की कोरोना वायरस वैक्‍सीन के लिए अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।

यूरोपीय निगरानी संस्‍था ने कहा है कि यह कोरोना वैक्‍सीन अभी यूरोप में मंजूरी के लिए तैयार नहीं है। उधर, ब्रिटेन और भारत में ऑक्सफर्ड (Oxford)  की वैक्‍सीन को बहुत जल्‍द ही मंजूरी मिल सकती है।

यूरोपीय मेडिसिन अथार्टी ने दावा किया है कि उसे अभी तक ऑक्सफर्ड की कोरोना वैक्‍सीन को आपातकालीन मंजूरी देने के लिए सभी आंकड़े नहीं मिले हैं।

अथार्टी के के उप कार्यकारी निदेशक नोएल वेथियान ने कहा कि वे फरवरी से पहले इस वैक्‍सीन को मंजूरी नहीं दे सकते हैं। इस बीच ब्रिटेन के अधिकारी किसी भी समय ऑक्‍सफोर्ड (Oxford) की कोरोना वायरस वैक्‍सीन के इस्‍तेमाल को मंजूरी दे सकते हैं।

महामारी अब बेकाबू

ब्रिटेन को उम्‍मीद है कि ऑक्सफर्ड की घरेलू वैक्‍सीन के आने से उन्‍हें नए साल पर इस महामारी से निपटने में काफी मदद मिलेगी। ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्‍ट्रेन आने के बाद यह महामारी अब बेकाबू हो गई है।

हालत यह है कि अस्‍पताल भर गए हैं और टेंटों में लोगों का इलाज करना पड़ रहा है। ब्रिटेन ने पहले ही 10 करोड़ डोज का ऑर्डर दे रखा है। ऑक्‍सफर्ड (Oxford) की यह वैक्‍सीन काफी सस्‍ती है और इसे सामान्‍य फ्रिज में रखा जा सकता है जिससे इसे लगाना आसान है।

अब तक ब्रिटेन में 6 लाख लोगों को फाइजर की कोरोना वैक्‍सीन लगाई जा चुकी है। बता दें कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के मिलने के बाद संक्रमण के मामलों में अचानक आई तेजी से दुनियाभर के देश हैरान है। अब यह स्ट्रेन भारत समेत दुनिया के कई देशों तक पहुंच चुका है।

इसे भी पढ़े- DM ने बीडी पाण्डे चिकित्सालय के लिए 23.34 लाख दिए

इस बीच एस्ट्राजेनेका के सीईओ पास्कल सोरियट ने दावा किया है कि उनकी वैक्सीन कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के खिलाफ भी कारगर होगी। उनकी कंपनी ब्रिटेन की ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोरोना वायरस की वैक्सीन बना रही है।

एक इंटरव्यू में कंपनी के सीईओ ने कहा कि कोरोना वायरस के अति संक्रमण वाले नए स्ट्रेन के खिलाफ भी उनकी वैक्सीन कारगर होनी चाहिए।

भारत में ऑक्सफर्ड (Oxford) एस्ट्राजेनेका वैक्सीन ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ टाइअप किया है। माना जा रहा है कि इस वैक्सीन को गुरुवार तक ब्रिटिश सरकार की मंजूरी मिल जाएगी। जिसके बाद जल्द से जल्द लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

Related posts

Leave a Comment