Uttar Pradesh

UP में Fog का कहर तो उत्तराखंड में बर्फबारी की संभावना

उत्तराखंड में बर्फबारी की संभावना तो UP में Fog का कहर

हल्‍दवानी, खबर संसार। उत्तराखंड में आज और कल बारिश व बर्फबारी की संभावना है। हालांकि यहां भी मैदानी इलाकों में कोहरे (Fog) का असर साफ तौर पर देखा जा सकता है। मौसम केन्द्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि शुक्रवार की देर रात से अगले 12 घंटों में गढ़वाल क्षेत्र में कहीं-कहीं ओलावृष्टि, आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है।

इसके साथ ही हरिद्वार, ऊधमसिंहनगर जिलों में 13 व 14 दिसंबर को कोहरा (Fog) छाने की संभावना है। गुरुवार को देहरादून में अधिकतम तापमान 27.2 डिग्री दर्ज किया गया, जो सामान्य से पांच डिग्री अधिक है। न्यूनतम तापमान 11.4 दर्ज किया गया जो सामान्य से तीन डिग्री अधिक है।

उत्तर प्रदेश और बिहार समेत कई अन्य राज्यों में कोहरे (Fog) का कहर

उत्तर प्रदेश और बिहार समेत कई अन्य राज्यों में पिछले कुछ दिनों से कोहरे (Fog) का गिरना लगातार जारी है। कोहरे की चादर में लिपटे होने से सड़कों पर रफ्तार धीमी हो गई है। वहीं उत्तराखंड में आज और कल बर्फबारी व बारिश के आसार हैं। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत गोरखपुर, वाराणसी और कानपुर में घना कोहरा (Fog) छाया है। सड़कों पर गाड़ियां थम-थम कर चल रही हैं। दृश्यता काफी कम हो गई है। स्थिति यह है कि कुछ कदम दूर ही दिखाई नहीं पड़ रहा। मौसम विभाग का कहना है कि कोहरे (Fog) का कहर 14 दिसंबर तक जारी रहने की संभावना है।

इसे भी पढ़े: दिल्ली पुलिस के दो आईपीएस अफसर corona पॉजिटिव

कमोबेश यहीं हाल बिहार के शहरों का भी है। सुबह नींद से उठने के साथ ही लोगों को कोहरे का दर्शन हुआ। पिछले दो दिन सूर्य की किरणें नहीं दिखी हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि आज भी भगवान सूर्य के दर्शन होने की संभावना कम है। कोहरे का असर ट्रेन और फ्लाइट पर भी पड़ा है। वहीं किसानों को अपनी फसल की चिंता सता रही है। कोहरे के कारण खेती के काम नियमित रूप से नहीं हो पा रहे हैं।

खराब मौसम के कारण यूपी के सीएम का कार्यक्रम हुआ रद्द

खराब मौसम के असर का शिकार गुरुवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी हुए। आजमगढ़ का उनका कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। वे 5876 करोड़ की लागत वाले गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे निर्माण की प्रगति की समीक्षा करने वाले थे। मुख्यमंत्री को जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर अतरौलिया के मड़ोही मदियापार में 91 किलोमीटर की इस परियोजना के पैकेज दो की समीक्षा करनी थी।

Related posts

Leave a Comment