Sunday, June 23, 2024
HomeNationalDD न्‍यूज ने बदला लोगो तो, विपक्ष ने लगाया ‘प्रचार भारती’ होने...

DD न्‍यूज ने बदला लोगो तो, विपक्ष ने लगाया ‘प्रचार भारती’ होने का आरोप

केसरिया हुआ DD न्‍यूज का लोगो तो, विपक्ष ने लगाया ‘प्रचार भारती’ होने का आरोप जी हां दूरदर्शन ने अपने लोगो को एक अलग भगवा (या नारंगी) रंग में बदल दिया है, जिसकी विपक्षी खेमे में आलोचना हो रही है। दूरदर्शन के अंग्रेजी समाचार चैनल डीडी न्यूज ने हाल ही में एक्स पर एक नया प्रमोशनल वीडियो साझा करते हुए अपने नए लोगो का खुलासा किया।

कैप्शन में लिखा कि हमारे मूल्य वही हैं, अब हम एक नए अवतार में उपलब्ध हैं। एक ऐसी समाचार यात्रा के लिए तैयार हो जाइए जो पहले कभी नहीं देखी गई… बिल्कुल नए डीडी न्यूज़ का अनुभव लें। यह लोगो 16 अप्रैल, 2024 को लागू हुआ, जिसने पिछले लाल वाले को बदल दिया। अपने आधिकारिक सोशल मीडिया पेजों के माध्यम से, डीडी न्यूज़ ने कहा कि उनके मूल्य वही रहेंगे और वे अब एक नए अवतार में उपलब्ध हैं।

सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ रंग के जुड़ाव को देखते हुए चैनल के ‘भगवाकरण’ को लेकर विपक्ष और मीडिया विशेषज्ञों ने आलोचना की। जवाहर सरकार, जो 2012 से 2016 तक प्रसार भारती के सीईओ थे और वर्तमान में तृणमूल कांग्रेस से राज्यसभा सदस्य हैं, ने इसे “भगवाकरण” का दूसरा रूप बताया और प्रसार भारती को “प्रचार भारती” कहा।

प्रसार भारती के सीईओ गौरव द्विवेदी ने आलोचना को खारिज किया

सोशल मीडिया पर भी इसकी खूब चर्चा हो रही है। प्रसार भारती के सीईओ गौरव द्विवेदी ने आलोचना को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि रंग नारंगी है। छह से सात महीने पहले, हमने जी20 से पहले डीडी इंडिया लोगो को उसी रंग में बदल दिया था। इस प्रकार, एक ही समूह के दो समाचार चैनल अब एक ही दृश्य सौंदर्य का पालन करते हैं।

उन्होंने कहा, डीडी नेशनल का लोगो, जो अंग्रेजी और हिंदी में सामान्य मनोरंजन और समाचार कार्यक्रम प्रसारित करता है, को भी पिछले साल अपडेट कर भगवा/नारंगी और नीला कर दिया गया था। उन्होंने दावा किया कि केवल लोगो का रंग ही नहीं, हमने अपने उपकरण और स्टूडियो को भी फिर से तैयार किया है।

दूरदर्शन ने 15 सितंबर, 1959 को सार्वजनिक सेवा प्रसारण में एक मामूली प्रयोग के साथ शुरुआत की। यह प्रयोग 1965 में एक सेवा बन गया जब दूरदर्शन नई दिल्ली और उसके आसपास के लिविंग रूम में टेलीविजन सेट तक पहुंच गया। 1975 तक सेवाओं को मुंबई, अमृतसर और सात अन्य शहरों तक बढ़ा दिया गया। 1 अप्रैल, 1976 को यह सूचना और प्रसारण मंत्रालय में एक अलग विभाग के अंतर्गत आ गया। 1982 में दूरदर्शन राष्ट्रीय प्रसारक बन गया।

इसे भी पढ़े-मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रानीबाग स्थित एचएमटी फैक्ट्री का निरीक्षण किया

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.