Friday, July 19, 2024
HomeTourismभारत ही नहीं पाकिस्तान से लेकर श्रीलंका तक में स्थित हैं मां...

भारत ही नहीं पाकिस्तान से लेकर श्रीलंका तक में स्थित हैं मां दुर्गा के शक्तिपीठ

वैसे तो भारत में मां दुर्गा के कई लोकप्रिय मंदिर हैं। जहां पर आप न सिर्फ नवरात्रि बल्कि कभी भी जा सकते हैं। माता सती के शरीर के अंग जहां-जहां पर गिरे वहां पर शक्तिपीठ का निर्माण हुआ। 52 ऐसे Shaktipeeth हैं जो अलग-अलग जगहों पर स्थित हैं।

यह सभी Shaktipeeth अलग-अलग नामों से जाने जाते हैं। लेकिन क्या आपको मालूम है कि सभी Shaktipeeth भारत में नहीं हैं। बल्कि कुछ शक्तिपीठों के दर्शन के लिए आपको विदेश जाना पड़ेगा।

पाकिस्तान में स्थित Shaktipeeth

भारत के पड़ोशी देश पाकिस्तान में देवी मां का फेमस Shaktipeeth स्थित है। पाकिस्तान के बलूचिस्तान में Hingula Shaktipeeth स्थित है। बता दें कि देश के प्राचीन मंदिरों में से एक है। यहां पर माता के हिंगलाज स्वरूप की पूजा होती है। मान्यता के अनुसार, इस स्थान पर माता सती का सिर गिरा था। इसे नानी का हज या नानी का मंदिर कहा जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस मंदिर पर कई बार आतंकी हमले हुए। लेकिन इस शक्तिपीठ को नाम मात्र का नुकसान नहीं हुआ।

श्रीलंका में शक्तिपीठ

भारत के दक्षिण में स्थित श्रीलंका में भी देवी मां का Shaktipeeth है। इस शक्तिपीठ को Indrakshi Shaktipeeth कहा जाता है। बताया जाता है कि यहां पर माता सती के पैर की पायल गिरी थी। वहीं मान्यता के अनुसार, देवराज इंद्र और भगवान विष्णु के अवतार श्रीराम ने शक्तिपीठ में पूजा-अर्चना की थी। श्रीलंका के जाफना नल्लूर में देवी मां को इंद्राक्षी पुकारा जाता है।

नेपाल में तीन Shaktipeeth

भारत के पड़ोसी देश नेपाल में तीन शक्तिपीठ हैं। पहला Shaktipeeth गंडक नदी के पास है। जिसे आद्या शक्तिपीठ के नाम से जाना जाता है। इस स्थान पर माता सती का बायां गाल गिरा था। यहां पर देवी मां को गंडकी कहकर पुकारा जाता है।

दूसरा शक्तिपीठ पशुपतिनाथ मंदिर से कुछ दूरी पर मौजूद बागमती नदी के किनारे स्थित है। इस मंदिर का नाम गुहेश्वरी शक्तिपीठ के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि यहां पर माता सती के दोनों घुटने गिरे थे। इस स्थान पर देवी मां की महामाया रूप में पूजा होती है।

नेपाल में स्थित तीसरा शक्तिपीठ बिजयापुर गांव में बसा है। यहां पर माता सती के दांत गिरे थे। जिस कारण इस दंतकाली शक्तिपीठ के नाम से जाना जाता है।

तिब्बत में स्थित Shaktipeeth

भारत के पास बसे तिब्बत में माता सती के हाथ की दाईं हथेली गिरी थी। यह मनसा देवी शक्तिपीठ के नाम से जाना जाता है। बता दें कि तिब्बत में मानसरोवर नदी के तट पर यह शक्तिपीठ स्थित है।

बांग्लादेश में 6 Shaktipeeth

  • पहला शक्तिपीठ उग्रतारा नाम से प्रसिद्ध हैं, मान्यता के अनुसार, यहां पर माता सती की नाक गिरी थी।
  • दूसरा अपर्णा शक्तिपीठ है, इस स्थान पर माता के बाएं पैर की पायल गिरी थी।
  • सिलहट जिले में शैल नाम के स्थान पर तीसरा Srishail Shaktipeeth स्थित है। यहां पर माता सती का गला गिरा था।
  • चिट्टागोंग जिले में सीता कुंड स्टेशन के पास चंद्रनाथ पर्वत शिखर पर छत्राल में 4th Shaktipeeth स्थित है। इस स्थान पर माता सती की दांयी भुजा गिरी थी।
  • यशोरेश्वरी माता नामक 5th Shaktipeeth हैं। इस स्थान पर बाईं हथेली गिरी थी।
  • सिलहट जिले के खासी पर्वत पर जयंती शक्तिपीठ है। यहां पर माता सती की बाईं जंघा गिरी थी।

इसे भी पढ़े- पवन खेड़ा की कोर्ट में होगी पेशी, ट्रांजिट रिमांड पर असम ले जाएगी पुलिस

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.