Sunday, June 23, 2024
HomeUttarakhandहिंदी व भाषायी अखबार ही हैं असली भारत की पहचान- प्रो. केजी....

हिंदी व भाषायी अखबार ही हैं असली भारत की पहचान- प्रो. केजी. सुरेश

खबर संसार हल्द्वानी.हिंदी व भाषायी अखबार ही हैं असली भारत की पहचान- उक्त बात प्रो. के.जी. सुरेश.ने आज कही. साथ ही नए राष्ट्र के निर्माण के लिए हिंदी पत्रकारिता को बताया आवश्यक.भाषा के बिना पत्रकारिता अधूरी है आज भाषा का क्षरण हो गया है मीडिया शिक्षार्थियों का साहित्य से नाता टूट गया है। भारतीय भाषाओं के अखबारों में अपनी माटी की खुशबू है जिसका जिंदा रहना जरूरी है ये कहना है प्रोफेसर के.जी सुरेश का जो कि एशिया के पहले व देश के सबसे बड़े मीडिया संस्थान माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के कुलपति हैं. अवसर था उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के जनसंचार एवं पत्रकारिता विभाग द्वारा हिंदी पत्रकारिता दिवस पर एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का। सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि उन्होंने कहा कि आजादी के वक्त राष्ट्रीयता हमारी पत्रकारिता का अभिन्न अंग थी आज भी एक पत्रकार को एक मीडिया पेशेवर को अपने राष्ट्र को केन्द्र में रखकर पत्रकारिता करनी चाहिए.

हिंदी व भाषायी अखबार ही हैं असली भारत की पहचान- प्रो. के.जी. सुरेश

Vedio भी देखें 

उन्होंने कहा कि हिंदी का पहला अखबार उदंत मार्तंड बेशक 9 माह में बंद हो गया लेकिन उसका प्रभाव बहुत गहरा पड़ा। उन्होंने मीडिया के शिक्षार्थियों के अलावा भी देश के हर व्यक्ति के लिए मीडिया साक्षरता को जरूरी माना।इस मौके पर सेमिनार के उद्घाटन सत्र में मुख्य वक्ता भारतीय जन संचार संस्थान नई दिल्ली में प्रोफेसर डा. प्रमोद कुमार ने कहा कि हिंदी पत्रकारिता के 200 सालों में हमें आत्मअवलोकन करने की जरूरत है कि समाज के सभी तबकों को मुख्यधारा में क्या हम ला पाए हैं। उन्होंने मीडिया संस्थानों को पाठक सर्वे करने की सलाह देते हुए कहा कि सकारात्मक खबरों को अखबारों को प्रमुखता से प्रकाशित करना चाहिए ताकि लोगों में निराशा की जगह उत्साह का संचार हो। सेमिनार में उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ओ.पी.एस नेगी ने कहा कि पत्रकारिता ही समाज को दिशा देती है लोगों को सूचना सम्पन्न बनाती है इसीलिए एक पत्रकार का संवेदनशील होना, दूरदृष्टिवान होना राष्ट्र के लिए सोचना बहुत जरूरी है। सेमिनार के सहप्रायोजक एमबीपीजी कालेज हल्द्वानी के प्रिंसिपल प्रो. बनकोटी ने भी पत्रकारिता में जनसरोकारों की जरूरत को जरूरी बताया। यह सेमिनार मीडिया स्टडीड एंड रिसर्च एसोसिएशन, एमबीपीजी कालेज हल्द्वानी व उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के सहयोग से आयोजित की गई थी। सेमिनार का मुख्य विषय था विकसित भारत 2047 का संकल्प और न्यू मीडिया ; हिंदी पत्रकारिता के विशेष संदर्भ में.

सेमिनार के आयोजक विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं मीडिया अध्ययन विद्याशाखा के विभागाध्यक्ष डा. राकेश रयाल ने कहा कि हिंदी पत्रकारिता के इन 198 सालों में भाषाई तौर पर पत्रकारिता में काफी गिरावट आई है। मीडिया शिक्षार्थियों की नई पीढ़ी न तो हिंदी की देवनागरी लिपी पंसद करती है और न ही रिपोर्टिंग वाली पत्रकारिता को। सभी को एंकर बनना है या फिर कारपोरेट में इवेंट मैनेजर. ऐसे में चुनौती बड़ी है कि कैसे पत्रकारिता की नयी पीढी के सामने हिंदी पत्रकारिता के आर्दशों को रखा जाए। मानविकी विद्याशाखा की निदेशक प्रो. रेनू प्रकाश ने कहा कि हिंदी पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा नये रचनात्मक प्रयोग किये जाएंगे। इस मौके पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. पी.डी, पंत ने सभी अतिथियों का आभार जताया। सेमिनार का संचालन हिंदी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डा. शशांक शुक्ला ने किया।

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.