Wednesday, September 22, 2021
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img
HomeNationalkisaanon से सीधे टकराव से बचें पार्टी कार्यकर्ता-गृहमंत्री

kisaanon से सीधे टकराव से बचें पार्टी कार्यकर्ता-गृहमंत्री

- Advertisement -Large-Reactangle-9-July-2021-336

नई दिल्‍ली, खबर संसार। अभी-अभी एक बड़ी खबर आ रही है कि गृहमंत्री अमित शाह ने किसानों (kisaanon) से सीधे टकराव की स्थिति से बचना है। उन्‍होंने पार्टी के सभी पदाधिकारियों निर्देश दिए कि किसानों से संब‍न्धित कोई भी कार्यक्रम नहीं आयोजित किए जाएगें।

बताते चले कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसान (kisaanon) आंदोलन का आज 49वां दिन है। प्रदर्शनकारी लोहड़ी पर आज कृषि कानूनों की कॉपी जला रहे हैं। इस बीच भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने कहा है कि जो प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें तो खुद पता नहीं कि वे क्या चाहते हैं और कृषि कानूनों में दिक्कत क्या है? इससे पता चलता है कि वे किसी के कहने पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

- Advertisement -Banner-9-July-2021-468x60

इसे भी पढ़े- इस तरीके से Whatsapp ग्रुप को Signal ऐप पर करें ट्रांसफर

हेमा मालिनी ने ये भी कहा कि कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगना अच्छी बात है, इससे मामला शांत होने की उम्मीद है। किसान कई दौर की चर्चा के बाद भी मानने को तैयार नहीं हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को तीनों कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगा दी। साथ ही बातचीत से मुद्दा सुलझाने के लिए 4 एक्सपर्ट की कमेटी बना दी, लेकिन किसानों (kisaanon) का कहना है कि कानून वापसी तक आंदोलन खत्म नहीं करेंगे।

किसान नेता राकेश टिकैत और डॉ. दर्शनपाल सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से बनाई गई कमेटी के चारों सदस्य नए कृषि कानूनों का खुलेआम समर्थन करते रहे हैं। ये सरकारी लोग हैं। इसलिए आंदोलन खत्म नहीं होगा, बल्कि 26 जनवरी को राजपथ पर ट्रैक्टर परेड की तैयारियां और तेज की जाएंगी।

कमेटी 10 दिन में काम शुरू करेगी

कमेटी में भारतीय किसान संघ के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह मान, अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान के डायरेक्टर डॉ. प्रमोद कुमार जोशी, कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी और महाराष्ट्र के शेतकारी संगठन के अध्यक्ष अनिल घनवट हैं। चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने कमेटी को 10 दिन में काम शुरू करने के आदेश दिए हैं।

इससे पहले सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट को बताया- ‘कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं कि नए कानूनों से किसानों (kisaanon) की जमीन छीन ली जाएगी। लेकिन, कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग में कॉन्ट्रैक्ट सिर्फ फसल का होगा, जमीन का नहीं। इस पर कोर्ट ने कहा कि सरकार और किसान, दोनों ही अपने पक्ष अब कमेटी के सामने रखें।

हम आपको ताजा खबरें भेजते रहेंगे....!

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.