Thursday, February 29, 2024
spot_img
spot_img
HomeUttarakhandजाने क्‍यों सिलक्यारा टनल से अगर आज नहीं निकले मजदूर तो लगेंगे...

जाने क्‍यों सिलक्यारा टनल से अगर आज नहीं निकले मजदूर तो लगेंगे 7-8 दिन

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में सिलक्यारा टनल में 41 मजदूरों के फंसे हुए 11 दिन बीत चुके हैं और उन सभी को जल्दी और सुरक्षित बाहर निकालने के लिए बचाव अभियान जारी है। कार्यकर्ताओं का एक वीडियो जारी किया गया. इसके बाद सभी ने राहत की सांस ली।

वीडियो में, कार्यकर्ता के स्वस्थ होने की पुष्टि की गई है और कार्यकर्ता को 6 इंच की लाइफ सपोर्ट ट्यूब के माध्यम से निरंतर पोषण, पानी और ऑक्सीजन प्रदान किया जाता है, जिसका उपयोग संचार के लिए भी किया जाता है। कुछ लोग सोच रहे हैं कि कर्मचारी कब और कैसे जा सकते हैं।

मजदूरों को निकालने के लिए सिलक्यारा की तरफ से सुरंग में 800 एमएम का पाइप डाला जा रहा है।जिससे मजदूरों को बाहर लाना है।इस पाइप को उसी भूस्खलन के बीच से गुजरना है जिसकी वजह से मजदूर अंदर फंसे हुए हैं।अधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि पाइप कुल 60 मीटर तक पहुंचाना है।जिसमें से 24 मीटर अंदर तक पाइप चला गया है और 36 मीटर जाना बाकी है।

रुकावट आई तो लग जाएंगे 7-8 दिन

सूत्र ने बताया कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो 15 घंटे में ऑपरेशन पूरा किया जा सकता है।लेकिन कोई रुकावट (जैसे मलबे में चट्टान या कोई धातु या कोई मशीन) आई और अगर पाइप आगे नहीं जा पाया, तो फिर पूरा मलबा हटाकर मजदूरों को बाहर लाया जाएगा।जिसमें 7-8 दिन लग जाएंगे।सूत्र का कहना है कि अभी तक जितना मलबा हटा रहे हैं उतना ही और फिर से आ जाता है.

जानें सिलक्यारा टनल के बारे में

अब आपको इस टनल के बारे में भी बताते हैं।दरअसल ये टनल सिलक्यारा से लेकर बड़कोट तक बनाई जा रही है जिसकी लंबाई 4,531 मीटर है।ये ऑल वदर रोड है और इसके निर्माण से तीर्थयात्रियों को बहुत लाभ होगा।इसके बन जाने से राष्ट्रीय राजमार्ग-134 (धरासु-बड़कोट-यमुनोत्री रोड) की 25.6 किमी हिम-स्खलन प्रभावित लंबाई घटकर 4.531 किलोमीटर तक रह जाएगी।

सिल्कयारा की तरफ फंसे हैं मजदूर

टनल में जहां मजदूर फंसे हुए हैं वो सिल्कयारा की तरफ से 205 मीटर से 260 मीटर की दूरी पर है।यहां 12 नवंबर की सुबह 5.30 बजे के आसपास मिट्टी का धंसाव हुआ था।उस वक्त मजदूर अंदर रिप्रोफाइलिंग का काम कर रहे थे।जिस क्षेत्र में श्रमिक फंसे हैं वो करीब 2075 मीटर का क्षेत्र है और इस हिस्से का निर्माण हो चुका है।जिसका मतलब है कि मजदूरों के पास अंदर काफी जगह है।

इसे भी पढ़े-स्वास्थ्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने बीडी चिकित्सालय का किया निरीक्षण

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए

RELATED ARTICLES

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.