International

Train हादसे में 48 लोगों की मौत, 100 से अधिक घायल

ताइपे, खबर संसार। पूर्वी ताइवान में पहाड़ी से गिरे वाहन से टकराकर एक ट्रेन (Train) के आंशिक रूप से पटरी से उतर जाने से 48 लोगों की मौत हो गई। ताइवान के सबसे घातक रेल हादसे में ट्रेन के कुछ हिस्सों के अब भी सुरंग में फंसे होने के कारण यात्रियों को सुरक्षित निकलने के लिए खिड़कियों और छत पर चढ़ते हुए देखा गया।

यह हादसा लंबे सप्ताहांत के पहले दिन टोरोको गॉर्ज दार्शनिक क्षेत्र में हुआ जहां कई लोग ताइवान के मजबूत रेल नेटवर्क के चलते ट्रेनों से सफर कर रहे थे। ट्रेन (Train) में 400 से अधिक लोग सवार थे।

राष्ट्रीय दमकल सेवा ने मृतक संख्या की पुष्टि की। मृतकों में ट्रेन (Train) का युवा और नवविवाहित चालक भी शामिल है। दमकल सेवा ने कहा कि ट्रेन में सवार सभी यात्रियों का पता लग चुका है। इसने बताया कि 100 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

यह हादसा सबसे घातक हादसा

रेलवे समाचार अधिकारी वेंग हुई-पिंग ने इसे ताइवान का सबसे घातक रेल हादसा बताया। वेंग ने बताया कि रेलवे प्रशासन द्वारा संचालित निर्माण साइट का एक ट्रक ऊपर पहाड़ी से फिसलकर पटरियों पर आ गिरा। ट्रक में कोई नहीं था। ट्रेन (Train) की गति का पता नहीं चल सका है।

ट्रेन (Train) सुरंग से निकली ही थी जब यह घटना हुई और उसका अधिकतर हिस्सा अब भी सुरंग में ही है जिससे बाहर निकलने की कोशिश कर रहे यात्रियों को मजबूरन खिड़कियों, दरवाजों और छतों पर चढ़ना पड़ा।

अधिकारिक सेंट्रल न्यूज एजेंसी की वेबसाइट पर घटनास्थल पर मौजूद लोगों द्वारा पोस्ट की गई तस्वीरों और टीवी फुटेज में लोग सुरंग के प्रवेश के ठीक बाहर ट्रेन के एक डिब्बे के खुले हुए गेट पर चढ़ते हुए दिख रहे हैं। एक डिब्बे का अंदरूनी हिस्सा पूरी तरह उखड़कर बगल की सीट पर आ गिरा है।

इसे भी पढ़े-Jahnavi Kapoor के कपड़े देख भड़के लोग, किए गंदे कमेंट

दुर्घटना की जांच शुरू कर दी गई है और किसी गिरफ्तारी के बारे में तत्काल कोई जानकारी नहीं दी गई है। ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग वेन ने ट्वीट में कहा कि आपातकालीन सेवाओं को ‘पूरी तरह बचाव के काम, यात्रियों एवं प्रभावित स्टाफ की मदद के काम पर लगा दिया गया है।

हम इस दिल दहला देने वाले हादसे को देखते हुए उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सबकुछ करेंगे।’ यह दुर्घटना चार दिन के टॉम्ब स्वीपिंग उत्सव के पहले दिन हुई है। ताइवानी प्रधानमंत्री सू सेंग चांग ने कहा कि रेलवे प्रशासन को ऐसी किसी भी घटना को दोबारा होने से रोकने के लिए तत्काल दूसरी रेल लाइनों की भी जांच करनी चाहिए।

Related posts

Leave a Comment