Uttar Pradesh

आजादी के बाद पहली महिला को Fasi देने की तैयारी!

मथुरा, खबर संसार। यूूूूपी के मथुरा जेल में महिलाओं को भी फांसी (Fasi) देने की व्यवस्था है। महिलाओं के फांसी घर के मरम्मत की तैयारी की जा रही है। सूत्रों के अनुसार यहां शबनम नाम की महिला अपराधी को फांसी की सजा दी जा सकती है।

महिलाओं की फांसी (Fasi) के लिए प्रदेश में यह एकमात्र जेल है। हालांकि यहां आजादी के बाद से किसी को फांसी नहीं दी गई है। मथुरा जेल में 1870 में फांसी घर बनाया गया था। लेकिन जेल में मौजूद रेकॉर्ड के अनुसार आजादी के बाद से इस फांसी घर का प्रयोग नहीं किया गया है। मथुरा जेल में अब एक बार फिर जीर्ण-शीर्ण हो चुके फांसी घर को दुरुस्त करने का कार्य शुरू कर दिया गया है।

केवल मरम्मत की तैयारी-SP

फांसी (Fasi) घर को दुरुस्त करने के लिए जेल अधीक्षक ने अपने आला अधिकारियों को पत्र लिखा है। एनबीटी ऑनलाइन से बातचीत में जेल अधीक्षक शैलेन्द्र कुमार मैत्रेय ने बताया है कि उनके पास शबनम को फांसी दिए जाने के संबंध में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि फांसी घर की स्थिति खराब हो गई थी, जिसे दुरुस्त कराने के लिए पत्र लिखा गया है। उन्होंने बताया कि रस्सी का भी ऑर्डर दिया गया है।

7 लोगों की हत्यारी, कौन है शबनम?

जेल सूत्रों के मुताबिक अमरोहा की रहने वाली महिला शबनम को दी जाने वाली संभावित फांसी (Fasi) के लिए इसे दुरुस्त किया जा रहा है। अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर 15 अप्रैल 2008 को 7 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। शबनम ने अपने माता-पिता, दो भाई, भाभी, मौसी की लड़की, भतीजे की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी थी।

फेसबुक पेज से जुड़े

Related posts

Leave a Comment