Saturday, June 25, 2022
spot_imgspot_img
spot_img
HomeAstrologyबैसाख पूर्णिमा (baisakh-purnima) व्रत से होती है दरिद्रता दूर, कभी न करें...

बैसाख पूर्णिमा (baisakh-purnima) व्रत से होती है दरिद्रता दूर, कभी न करें ये सब काम

हिन्‍दू धर्म में बैसाख पूर्णिमा (baisakh-purnima) का विशेष महत्‍व होता है। इस साल बैसाख पूर्णिमा का बहुत खास है क्योंकि इस दिन चंद्र ग्रहण भी लगेगा। यह साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा, लेकिन भारत के किसी भी भाग में दिखाई नहीं देगा। 16 मई के दिन बनने वाले इन सभी संयोग के कारण बैसाख पूर्णिमा का महत्व विशेष रूप से बढ़ जाता है। इसी दिन भगवान बुद्ध के धरा अवतरण दिवस के कारण इसे बुद्ध पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

बैसाख पूर्णिमा पर रखें सत्य विनायक व्रत

baisakh-purnima पर सत्य विनायक व्रत रखने का भी विधान है। मान्यता है कि इस दिन सत्य विनायक व्रत रखने से व्रती की सारी दरिद्रता दूर हो जाती है। मान्यता है कि अपने पास मदद के लिए आए भगवान श्रीकृष्ण ने अपने मित्र सुदामा (ब्राह्मण सुदामा) को भी इसी व्रत का विधान बताया था जिसके पश्चात उनकी गरीबी दूर हुई। बैसाख पूर्णिमा को धर्मराज की पूजा करने का विधान है। पंडितों का मानना है कि धर्मराज सत्यविनायक व्रत से प्रसन्न होते हैं। इस व्रत को विधिपूर्वक करने से व्रती को अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता।

जानें बैसाख पूर्णिमा के बारे में

हिन्‍दू धर्म में हर महीने की पूर्णिमा विष्णु भगवान को समर्पित होती है। हर पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। उसी प्रकार बैसाख पूर्णिमा भी बहुत खास होती है। इस महीने में होने वाली पूर्णिमा के दिन सूर्य अपनी उच्च राशि मेष में और चांद भी अपनी उच्च राशि तुला में होता है। ऐसी मान्यता है कि बैसाख पूर्णिमा के दिन किया गया स्नान कई जन्मों के पापों का नाश करता है।

पूर्णिमा का बुद्ध से खास है विशेष सम्बन्ध

बैसाख पूर्णिमा (baisakh-purnima) को बुद्ध पूर्णिमा भी कहा जाता है। बैसाख पूर्णिमा के दिन ही महान दार्शिनक तथा विचारक गौतम बुद्ध का 563 ईसा पूर्व में जन्म हुआ था। यही नहीं 531 ईसा पूर्व निरंजना नदी के तट पर पीपल के पेड़ के नीचे महात्मा बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था। साथ ही महात्मा बुद्ध का महापरिनिर्वाण भी बैसाख पूर्णिमा के दिन ही हुआ था इसलिए बौद्ध धर्म में बैसाख पूर्णिमा का खास महत्व होता है।

बैसाख पूर्णिमा पर इन कामों से होगी परेशानी 

पूर्णिमा बहुत पवित्र दिन होता है, इसलिए इस दिन विशेष प्रकार के काम न करें। इस दिन सदैव शाकाहार ग्रहण करें तथा मांसाहार का सेवन कभी नहीं करें। यह दिन पितरों के तर्पण के लिए खास माना जाता है इसलिए बैसाख पर्णिमा के दिन गंगा नदी में स्नान कर हाथ में तिल लेकर पितरों क तर्पण करने से उनकी आत्मा को शांति मिलती है।

लक्ष्मी जी को ऐसे करें प्रसन्न

बैसाख पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा, विष्णु भगवान और लक्ष्मी जी पूजा करने से सभी दुख दूर होते हैं और सुख-समृद्धि आती है। चन्द्रमा को सफेद रंग भाता है इसलिए दूध और शहद इत्यादि का दान करें। इससे मान-सम्मान बढ़ता और घर में सुख-शांति बनी रहती है। इस दिन रात में खीर बनाकर चन्द्रमा को भोग लगाएं। इससे जीवन में सुख बढ़ेगा।

इस दिन गणेश जी और हनुमान जी की अराधना से भक्त को लाभ मिलता है। बौद्ध धर्म के अनुयायी और हिन्दू भक्त दोनों ही बैसाख पूर्णिमा को बहुत श्रद्धा से मनाते हैं। भगवान बुद्ध विष्णु के अवतार माने जाते हैं। इस प्रकार विष्णु भक्त भगवान बुद्ध में विष्णु रूप को देखते हैं और उनकी अराधना करते हैं।

इसे भी पढ़े-Gyanvapi Masjid का कमिश्नर डीएम की मौजू्दगी में हुआ सर्वे, मिले कई साक्ष्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.

you're currently offline