National

Prime minister ने लाइट हाउस प्रोजेक्ट्स की आधारशिला रखी

नई दिल्ली, खबर संसार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime minister) ने शुक्रवार को छह राज्यों में ग्लोबल हाउसिंग टेक्नोलॉजी चैलेंज-इंडिया के तहत लाइट हाउस प्रोजेक्ट्स (Light House Project) की आधारशिला रखी।

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लाइट हाउस प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन किया। इस समारोह में आवास और शहरी मामलों के हरदीप सिंह पुरी समेत त्रिपुरा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी उपस्थित रहे। इस दौरान पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित किया।

इसे भी पढ़े-साल के आख‍िरी दिन BSE व Nifty ने रिकॉर्ड कायम किए

पीएम नरेंद्र मोदी (Prime minister) ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘ये 6 प्रोजेक्ट वाकई लाइट हाउस यानी प्रकाश स्तंभ की तरह हैं और जिंदगी में रौशनी लाने वाली आवास योजना है। ये 6 प्रोजेक्ट देश में हाउसिंग कंस्ट्रक्शन को नई दिशा दिखाएंगे. ये लाइट हाउस प्रोजेक्ट अब देश के काम करने के तौर-तरीकों का उत्तम उदाहरण है।

हमें इसके पीछे बड़े विजन को भी समझना होगा. एक समय आवास योजनाएं केंद्र सरकारों की प्राथमिकता में उतनी नहीं थी, जितनी होनी चाहिए। सरकार घर निर्माण की बारिकियों और क्वालिटी में नहीं जाती थी। ये प्रोजेक्ट आधुनिक तकनीक और इनोवेटिव प्रोसेस से बनेंगे। इसमें कंस्ट्रक्शन का समय कम होगा और गरीबों के लिए ज्यादा सस्ती और आरामदायक घर तैयार होंगे।

अलग-अलग देशों की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल

पीएम मोदी ने कहा, ‘लखनऊ में, हम कनाडा से लाई प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रहे हैं। इसमें प्लास्टर और पेंट की जरूरत नहीं होगी और पूर्व निर्मित दीवारों का उपयोग किया जाएगा। अगरतला में, हम न्यूजीलैंड से स्टील फ्रेम प्रौद्योगिकी का उपयोग करके घरों का निर्माण कर रहे हैं। यह घरों को भूकंप के जोखिम से रोकने के लिए है। रांची में, हम जर्मनी से 3डी निर्माण प्रणाली का उपयोग कर रहे हैं। इस पैटर्न में, हर कमरे को अलग से बनाया जाएगा और फिर पूरे ढांचे को ब्लॉक की तरह जोड़ा जाएगा।

सबका सपना होता है अपना घर: Prime minister

पीएम मोदी ने कहा, ‘देश में ही आधुनिक हाउसिंग तकनीक से जुड़ी रिसर्च और स्टार्टअप्स को प्रमोट करने के लिए आशा इंडिया प्रोग्राम चलाया जा रहा है। इसके माध्यम से भारत में ही 21वीं सदी के घरों के निर्माण की नई और सस्ती तकनीक विकसित की जाएगी।

‘ उन्होंने कहा, ‘शहर में रहने वाले गरीब हों या मध्यम वर्ग, इन सबका सबसे बड़ा सपना होता है, अपना घर। वो घर जिसमें उनकी खुशियां, सुख-दुख, बच्चों की परवरिश जुड़ी होती हैं, लेकिन बीते वर्षों में लोगों का अपने घर को लेकर भरोसा टूटता जा रहा था।

Related posts

Leave a Comment