Friday, July 19, 2024
HomeBusinessचीनी कंपनी वीवो इंडिया में Tata Group खरीद सकती है 51% हिस्सेदारी!

चीनी कंपनी वीवो इंडिया में Tata Group खरीद सकती है 51% हिस्सेदारी!

चीनी मोबाइल कंपनी वीवो इंडिया में टाटा समूह खरीद सकती है 51% हिस्सेदारी! जी, हां टाटा समूह (Tata Group) चीन की स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी वीवो (Vivo) में मैजोरिटी हिस्सेदारी (Majority Stake) खरीदने पर विचार कर रही है और इसके लिए टाटा समूह की वीवो के साथ बातचीत शुरू हो चुकी है। भारत सरकार चीनी कंपनियों पर देसी कंपनियों के साथ साझेदारी करने को कह रही है और इसी के चलते वीवो अपने ऑपरेशंस जिसमें मैन्युफैक्चरिंग और डिस्ट्रीब्यूशन शामिल है उसके लिए लोकल पार्टनर की तलाश में है।

मनीकंट्रोल ने सूत्रों के हवाले से बताया कि टाटा समूह और वीवो के बीच बातचीत एडवांस स्टेज में पहुंच चुकी है और वैल्यूएशन को लेकर चर्चा चल रही है। टाटा हिस्सेदारी खरीदने के लिए जितना ऑफर दे रही है वीवो उससे ज्यादा वैल्यूशन की मांग कर रही है। सूत्रों ने मनीकंट्रोल को बताया कि टाटा समूह इस डील में रूचि दिखा रही है लेकिन अभी कोई नतीजा सामने नहीं आया है। इस मसले पर टाटा संस ( Tata Sons) और वीवो दोनों ही कुछ भी कंमेट करने से इंकार कर दिया है।

वीवो और ऑप्पों भारत में मैन्युफैक्चरिंग के लिए साझेदार तलाश रही है

दरअसल भारत सरकार की तरफ से ज्यादा छानबीन के बाद चीनी मोबाइल कंपनियां वीवो और ऑप्पो (Oppo) दोनों ही अपने स्थानीय मैन्युफैक्चरिंग के लिए भारतीय साझेदार की तलाश कर रही हैं। भारत सरकार चाहती है चीन की मोबाइल हैंडसेट कंपनी के साथ ज्वाइंट वेंचर में भारतीय कंपनी की 51 फीसदी हिस्सेदारी हो। साथ ही ज्वाइंट वेंचर में लोकल लीडरशीप के साथ लोकल डिस्ट्रीब्यूशन मौजूद रहे। इससे देश के मोबाइल फोन इंडस्ट्री में घरेलू कंपनियों के साथ भारतीय एग्जीक्यूटिव्स का प्रभाव बढ़ेगा जिसपर चीनी हैंडसेट ब्रांड का दबदबा है।

टैक्स बचाने के लिए अपने रेवेन्यू के बड़े हिस्से को चीन की पैरेंट कंपनी को भुगतान करने के लिए वीवो एजेंसियों के जांच के दायरे में है। प्रवर्तन निदेशालय भी कंपनी के खिलाफ मनी लॉंड्रिंग के आरोपों की जांच कर रही है। बहरहाल टाटा समूह इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में बड़ा विस्तार करने की तैयारी में है। पिछले साल टाटा इलेक्ट्रॉनिक्स (Tata Electronics) देश में आईफोन मैन्युफैक्चरिंग (iPhone Manufacturing) करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है।

उसने ताईवान (Taiwan) के विस्ट्रॉन ( Vistron) के ऑपरेशंस को 125 मिलियन डॉलर में खरीद लिया था। अब कंपनी एप्पल (Apple) के दूसरे कॉंट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी पेगाट्रॉन (Pegatron) से उसके चेन्नई स्थित आईफोन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में मैजोरिटी स्टेक खरीदने के लिए बात कर रही है। इसके अलावा टाटा इलेक्ट्रॉनिक्स तमिलनाडु के होसूर में आईफोन एसेंबलिंग प्लांट बना रही है जो आईफोन की सबसे बड़ी एसेंबलिंग प्लांट होगी।

इसे भी पढ़े-मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रानीबाग स्थित एचएमटी फैक्ट्री का निरीक्षण किया

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img
-Advertisement-spot_img

Most Popular

About Khabar Sansar

Khabar Sansar (Khabarsansar) is Uttarakhand No.1 Hindi News Portal. We publish Local and State News, National News, World News & more from all over the strength.